गर्भावस्था में पीठ (कमर) दर्द क्यों होती है? जानिए इसके कारण और इलाज | Back Pain During Pregnancy Reason and Treatment in Hindi

गर्भावस्था में पीठ व कमर में दर्द (Back Pain During Pregnancy in Hindi) होना आम बात है। बहुत सी महिलाओं को गर्भावस्था में कमर और पीठ दर्द की शिकायत होती है, और आप इन सब तकलीफो को दूर करने के लिए बहुत कुछ कर सकते है। अगर आपको प्रेग्नेंसी में पेट में दर्द होता है तो आप शिशु के जन्म के समय इसके प्रभाव से चिंतित न हो। अब में आपको बताउगा पीठ और कमर दर्द के बारे में।

गर्भवस्था में कमर दर्द होना सामान्य है या नहीं?

गर्भावस्था में कमर में दर्द होना बहुत आम बात है। प्रेग्नेंसी में बहुत सी महिलाओं को किसी न किसी तरह का कमर में दर्द रहता है। अगर आप सही समय में सही इलाज लेते है तो गर्भावस्था में पीठ दर्द में आपको बहुत आराम मिलता है।

प्रेग्नेंसी में पीठ दर्द के कारण –

सच्चा पीठ दर्द – ये पीठ दर्द तब होता है, जब अस्थिबंध होता है, जो आपकी हड्डियों को जोड़ता है, मांसपेशियों या जोड़ो पर दवाब पड़ने से होता है। जैसे :-

  • चोट
  • गलत मुद्रा
  • गलत तरीके से सामन उठाना
  • कमजोर और कसी मांसपेशियों

श्रोणि करधनी दर्द – श्रोणि करधनी दर्द पीठ के निचले हिस्से में होता है, (जहां कूल्हे की दो हड्डिया होती है)। यह दर्द प्रेग्नेंसी के कारण होता है और इसका इलाज काफी अलग तरीके से करते है। आमतौर पर पीठ दर्द में किये जाने वाले मानक उपचार दर्द में काम नहीं करते।

प्रेग्नेंसी में पीठ दर्द क्यों होता है?

हर महिला को पीठ दर्द अलग-अलग कारणों से होता है। ज्यादातर महिलाओं को प्रेग्नेंसी में वजन बढ़ने के कारण पीठ में दर्द होता है। अब में आपको प्रेग्नेंसी में होने वाले पीठ दर्द के बारे में विस्तार से बताउगा।

  • वजन बढ़ना – प्रेग्नेंसी में महिलाओं का 12 से 15 किलो वजन बढ़ना आम बात है। जिससे आपको कमर में दर्द की तकलीफ होती है। इसका प्रभाव रीढ़ की हड्डी और कमर पर पड़ता है। इस कारण गर्भवती महिला को पीठ में दर्द होता है।
  • हार्मोन में बदलाव – हार्मोन में परिवर्तन होने के कारण पीठ में दर्द होना आम बात है। इस कारण प्रेग्नेंसी में रिलेसिन नाम का हार्मोन बनता है, यह कमर की हड्डियों को ढीला करने में मदद करता है जिससे शिशु आसानी से हो। इस कारण आपको प्रेग्नेंसी में कमर दर्द होता है।
  • मांसपेशियों में बदलाव आना – प्रेग्नेंसी में गर्भवती की मांसपेशियों में बदलाव होता है। जैसे समय नजदीक आने लगता है, वैसे वैसे गुदा और पेट की मांसपेशिया अलग होने लगती है और इस कारण आपको पेट की समस्या होती है।
  • तनाव – गर्भवती महिला किसी भी बात का तनाव नहीं लेना चाहिए, क्योकि इससे माँ के साथ साथ बच्चों पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। ऐसा में पीठ में दर्द होना बहुत आम बात है।
  • ज्यादा वजन उठाना – प्रेग्नेंसी में ज्यादा वजन उठाने से भी आपको पीठ में दर्द होने लगता है। अगर आप ऐसे में ज्यादा वजन उठाते है तो आपकी रीढ़ की हड्डी में बुरा असर पड़ता है। इस कारण आपको कमर में दर्द की तकलीफ होती है।
  • रीढ़ की हड्डी का कमजोर होना – जो महिलाए कमजोर होती है जो महिलाए कमजोर होती है उन्हें प्रेग्नेंसी के दौरान ज्यादा कमर दर्द सहन करना पड़ता है।

गर्भावस्था में पीठ दर्द और कमर दर्द से कैसे बचे?

गर्भावस्था में पीठ के दर्द को काम करने के लिए आप इन नियमों का पालन करें –

व्यायाम करें – प्रेग्नेंसी में कमर दर्द से बचने के लिए आपको व्यायाम करने की अच्छी आदत डालनी चाहिए। अगर आपको व्यायाम करने की आदत नहीं है तो धीरे धिरे व्यायाम की शुरुआत करें।

सुबह टहले –

प्रेग्नेंसी के समय आपको सुबह तेहेलनि की आदत डालनी चाहिए। आप दौड़ने और टहलने की कोशिश नहीं करें, जितना आपसे हो सके आप उतना तेज ही चले।

झुक कर न बैठे –

प्रेग्नेंसी में कमर दर्द से बचने के लिए आप झुककर नहीं बैठा करें। प्रेग्नेंसी की शुरुआत में ही आप सही तरीके से बैठना चालू कर दें। आपको पीठ के सहारे टिक कर बैठना चाहिए, क्योकि झुक कर बैठने से कमर दर्द की सम्भावना ज्यादा होती है।

बच्चें को गोद में न ले –

अगर आप छोटे बच्चे की माँ है और वर्तमान में आप गर्भवती भी है, तो उसे गोद में न ले। इसके लिए आप अपने पति और घर के सदस्यों की मदद ले और इसके साथ ही आप भारी वस्तुओं को भी न उठाये।

तंग कपडे न पहने –

प्रेग्नेंसी के समय आप टाइट कपड़े नहीं पहने, सिर्फ ढीले कपड़े पहनने चाहिए। टाइट कपड़े पहनने से आपको कमर में दर्द हो सकता है।

डॉक्टर से सलाह कब ले?

अगर आपको कमर में दर्द दो सप्ताह से अधिक समय ज्यादा समय से हो रहा है तो आप अपने डॉक्टर से समय करें –

  • कमर में असहनीय दर्द
  • कमर में अचानक दर्द
  • कमर के दर्द के साथ अचानक ऐंठन महसूस होना
  • अचानक कमजोरी महसूस करना
  • पसलियों के पीछे और आगे तेज दर्द

गर्भावस्था में कमर में दर्द होना बहुत मामूली बात है, इसलिए इस दर्द में आपको घबराना नहीं चाहिए और आर्टिकल में बताई गयी बातो का ध्यान रखे। अगर आपको गर्भवस्था में ज्यादा दर्द है या आपको स्वास्थ संबंधी समस्या है तो आप तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

 

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*