सवाईकल कैंसर क्या है? जानिये इसके लक्षण, कारण और बचाव के उपाय | Cervical Cancer in Hindi

cervical cancer in hindi

Cervical Cancer in Hindi बीमारी चाहे कोई भी हो डरने की जगह उससे लड़े, बहुत सी ऐसी बीमारी है जिसका नाम सुनते है लोग कहते है की इसका इलाज तो संभव ही नहीं है, लेकिन इस दुनिया में कुछ भी असम्भव नहीं है| बस बात इतनी है की समय रहते इन बीमारियों की पहचान करना है, इसी तरह कैंसर भी ऐसी ही बीमारी है|

कैंसर कितनी खतरनाक और जानलेवा बीमारी है, इसके बारे में आप सब अच्छे से जानते है| अगर पहली स्टेज में इसका पता चल जाए तो बचाव और इलाज संभव है, लेकिन अगर यह अपने आखिरी स्टेज पर पहुँच जाए तो बाद में सिर्फ दुआ ही काम आ सकती है, क्योंकि आखिरी स्टेज सिर्फ मौत है|

कैंसर का सीधा सा अर्थ है गाँठ या ट्यूमर, जिस जगह ट्यूमर होता है, वह उस जगह का कैंसर होता है| जैसे अगर सिर में ट्यूमर है तो वह ब्रेन कैंसर होता है| ऐसे ही कैंसर कई तरह का होता है और उसी में एक है सवाईकल (Cervical) कैंसर,आईये जानते है सवाईकल कैंसर क्या है, इसके लक्षण और कारण क्या है तथा इससे कैसे बचा जा सकता है?

सवाईकल कैंसर क्या है? (What is Cervical Cancer in Hindi)  

इसे गर्भाशय का कैंसर कहा जाता है, गर्भाशय में सेल्स (कोशिकाओं) की अनियमित वृद्धि को सवाईकल कैंसर कहते है, वैसे तो इसके ज्यादातर मामले फ्लैटेंड और स्क्वैक्ष सेल्स की बढ़ोतरी के कारण होता है, लेकिन कुछ मामलों में म्यूकस और ग्लैंडूलर भी कारण होते है| इसकी सबसे पहले की स्थिति को डिस्प्लेसिया कहते है, जिसका पूरा इलाज संभव है|

लेकिन जब यह बीमारी कैंसर का रूप ले लेती है तो इसे कार्किनोमा कहते है| ऐसा इसलिए भी हो सकता है की जब ऐसे पार्टनर के साथ सेक्स किया है जिसने कई लोगों के साथ सेक्स किया हो, इसके अलावा अगर महिलाओं का तंत्रिका कमजोर हो तो भी सवाईकल कैंसर हो सकता है, यह कैंसर महिलाओं में ज्यादा होता है|

सवाईकल कैंसर के लक्षण (Symptoms Of Cervical Cancer in Hindi)

सवाईकल कैंसर के लक्षण निम्नलिखित प्रकार के होते है।

अधिक मात्रा में रक्तस्राव

अगर संबध बनाने के बाद अधिक मात्रा में रक्तस्राव हो या तेज दर्द हो तो यह सवाईकल कैंसर का लक्षण है, अगर मासिक धर्म के बाद भी संबध बनांये और उसमे भी रक्तस्राव हो तो भी यह इसके लक्षणों में शामिल है|

सफ़ेद पदार्थ डिस्चार्ज

अगर महिलाओं की योनी से सफ़ेद बदबूदार पदार्थ का डिस्चार्ज हो तो यह सवाईकल कैंसर का लक्षण है, ऐसे में स्त्री रोग विशेषज्ञ से सम्पर्क करें|

पेट के निचले हिस्से में दर्द

वैसे मासिक धर्म के दौरान तो पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है लेकिन अगर मासिक धर्म के अलावा भी पेट के निचले हिस्से में तेज या हल्का दर्द भी इसका लक्षण है और इसे नजरअंदाज ना करें|

पेशाब की थैली में दर्द

अगर पेशाब की थैली में दर्द होता है तो भी यह सवाईकल कैंसर का लक्षण है|

इसके अलावा थकान, कमजोरी, ब्लीडिंग, गर्भाशय में जलन, भूख कम लगना, एनीमिया, वजन कम होना, योनी से गुलाबी रंग का स्राव होना आदि भी सवाईकल कैंसर के लक्षण है.

सवाईकल कैंसर के कारण (Reason Of Cervical Cancer in Hindi)

  • नियत समय से पहले माहवारी|
  • किशोरावस्था में गर्भवती होना|
  • कई लोगों के साथ शारीरिक संबध बनाना|
  • ऐसा सेक्स पार्टनर जिसके कई लोगों के साथ शारीरिक संबध हो|
  • धुम्रपान करना|
  • यौन सम्पर्क से होने वाली बीमारियाँ|
  • ह्यूमैन पैपिलोमा वायरस|
  • गर्भाशय में संक्रमण|

सवाईकल कैंसर की रोकथाम

अगर सवाईकल कैंसर से बचना चाहते है, तो ह्यूमैन पैपिलोमा वायरस से बचाव करना होगा| इसके लिए बाजार में दवाई उपलब्ध है, डॉक्टर इस दवाई की दिली तीन डोज देता है जो जीवन भर सुरक्षा करती है| यह वैक्सीन उन महिलाओं और किशोरियों को भी लगाईं जाती है जो 30 साल से कम है और शारीरिक संबध स्थापित करती हो, इन दवाइयों और वैक्सीन से 70% तक सवाईकल कैंसर से बचाव संभव है|

सवाईकल कैंसर का इलाज (Treatment Of Cervical Cancer in Hindi)

इस कैंसर के इलाज के लिए सर्जरी, किमोथैरेपी, वैक्सीनेशन आदि का सहारा लेना पड़ता है| सवाईकल कैंसर का पता इसके विकसित होने से पहले ही लगा जा सकता है, इसका कारण यह है की सर्विक्स की सतह से सेल्स आसानी से प्राप्त की जा सकती है और उसका माइक्रोस्कोप से निरिक्षण किया जा सकता है. 30 से कम उम्र की महिलाओं और किशोरियों को इसका वैक्सीन भी लगाया जाता है ताकि इससे बचाव हो सके. इसमें जरूरत पड़ने पर बायोप्सी का भी सहारा लिया जा सकता है.

सवाईकल कैंसर से बचाव के उपाय

  • महिलाएं 30 की उम्र के बाद सवाईकल कैंसर की जांच करवाएं, क्योंकि अगर समय रहते इसका इलाज करवा दिया जाए तो इससे पूरी तरह से बचा जा सकता है|
  • 30 की उम्र से पहले जो महिलाएं और किशोरियां शारिरीक संबध बनाती है उन्हें इसका वैक्सीन लगाना चाहिए|
  • आप नियमित रूप से पैप टेस्ट भी करवा सकती है|
  • वजन को बढ़ने ना दे|
  • पौष्टिक आहार ले तथा फल-फ्रूट का सेवन करें|
  • पार्टनर से संबध बनाते समय सेफ्टी का ध्यान रखें|
  • शरीर की साफ़-सफाई का ध्यान रखें|
  • अगर शारीरिक संबध बनाते समय अधिक दर्द और रक्तस्राव हो तो डॉक्टर से सम्पर्क करें|
  • पेट के निचले हिस्से में अगर दर्द मासिक धर्म के अवधि के अलावा हो तो डॉक्टर से सम्पर्क करें|
  • सवाईकल कैंसर के किसी भी लक्षण को नजरअंदाज ना करें और अपने डॉक्टर से सपर्क करें|

आज की इस पोस्ट में आप अच्छे से जान गए होंगे की सवाईकल कैंसर क्या है, इसके लक्षण और कारण क्या है तथा इससे कैसे बचा जा सकता है.. उम्मीद करता हु की आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी. अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और कमेंट बॉक्स में अपने विचार दे|

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*