चन्द्रप्रभा वटी के उपयोग, फायदे और नुकसान | Chandraprabha Vati Uses, Benefits And Side Effect In Hindi

Chandraprabha Vati in hindi

चन्द्रप्रभा वटी ( Chandraprabha vati in hindi) एक तरह की आयुर्वेदिक दवाई है जो बहुत सारी फार्मेसी कम्पनियां बनाती है. चन्द्रप्रभा वटी हर वर्ग के लोगों के लिए बहुत ही फायदेमंद है. आजकल लोगो की जैसी लाइफस्टाइल हो रही है और जैसा उनका खान-पान खराब हो रहा है ऐसे में चन्द्रप्रभा वटी एक लाभकारी ओषधि से कम नहीं है.

आयुर्वेद में इसके बारे में बहुत कुछ बताया गया है. आज के टाइम किसी भी रोग को जड़ से खत्म करने के लिए आयुर्वेद ही सबसे बड़ा उपाय है. इसे बाबा रामदेव भी बनाते है जो की आयुर्वेद के बड़े जानकार भी है और पतंजली के मालिक भी. चन्द्रप्रभा वटी गर्भाशय, मूत्रमार्ग और अन्य रोगों के लिए बहुत फायदेमंद है.

चन्द्रप्रभा वटी एक बहुत ही अच्छी जड़ी-बूटी सहित टैबलेट है जिसका इस्तेमाल बहुत से रोगों को ठीक करने के लिए किया जाता है. इसके उपयोग से हमारे शरीर से बहुत सारे रोग दूर हो जाते है. आईये जानते है चन्द्रप्रभा वटी को कैसे उपयोग करें, इसके फायदे क्या है और इसके नुकसान क्या है?

चन्द्रप्रभा वटी में पाए जाने वाले आयुर्वेदि तत्व कौनसे है?

चन्द्रप्रभा वटी में कपूर, बच, नागरमोथा, हल्दी, अतीस, पीपलामूल, हार्ड, बहेड़ा, आंवला, सौंठ, काली मिर्च, सेंधा नमक, गजपीपल, काला नमक तथा और भी बहुत सारी ओषधियाँ शामिल है.

चन्द्रप्रभा वटी की सेवन विधि

चन्द्रप्रभा वटी की 2-2 गोली सुबह और शाम शहद के साथ मिलाकर या दूध के साथ निगल लेनी चाहिए. दूध गुनगुना होना चहिये. इसे भोजन के बाद ही लेना चाहिए.

चन्द्रप्रभा वटी के फायदे (Chandraprabha Vati Benefits in Hindi)

कब्ज में लाभकारी:- चन्द्रप्रभा वटी का इस्तेमाल करने से आप कब्ज की बीमारी को दूर कर सकते है. इसको लेने से पेट में आराम मिलता है. इसके इस्तेमाल से पेट दर्द, गैस, कब्जी आदि में राहत मिलती है.

कर दे जवान:- चन्द्रप्रभा वटी का उपयोग करने से रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढती है जिससे आप जवान दिखने लगते है. इससे शरीर की कमजोरी दूर होती है और हमारा शरीर मजबूत बनता है. इसके नियमित उपयोग से आपका शरीर फुर्तीला बनता है.

ज्यादा प्यास से छुटकारा मिलता है:-अगर आपको बार-बार प्यास लगती है तो ऐसे में आपको चन्द्रप्रभा वटी का इस्तेमाल करना चहिये. इसके इस्तेमाल से हमारी बार-बार प्यास लगने की बीमारी दूर हो जाती है.

स्त्रीपुरुष जन्जांग में सहायक:-चन्द्रप्रभा वटी का इस्तेमाल करने स्त्री और पुरुष के जन्जांग वाले इलाकों में शुद्दी रहती है और वीर्य संक्रमण और शीघ्रपतन में यह बहुत उपयोगी है.

शरीर के विषैले पदार्थों को दूर करती है:- चन्द्रप्रभा वटी शरीर से विषैले पदार्थों को दूर करती है और शरीर को स्वस्थ बनाती है. इसके नियमित इस्तेमाल से खून भी साफ़ होता है.

यौन रोगों में लाभकारी:- चन्द्रप्रभा वटी के सेवन से शीघ्रपतन, वीर्य संक्रमण, पेशाब में रूकावट और जलन, धातुदोष, पीला पेशाब आना, हस्तमैथुन के कारण यौन अंग का शिथिल होना, गर्भाशय का दुर्बल होना आदि में चन्द्रप्रभा वटी बहुत सहायक है.

आँखों के लिए फायदेमंद है:- अगर आपकी आँखे कमजोर है तो आपको भी चन्द्रप्रभा वटी का इस्तेमाल करना चाहिए. इससे हमारी आँखे मजबूत बनती है और ना दिखने की समस्या से राहत मिलती है. अगर कोई व्यक्ति आँखों के रोग से परेशान है तो उसे चन्द्रप्रभा वटी की सलाह जरुर देनी चाहिए.

शुगर को कण्ट्रोल करती है:- चन्द्रप्रभा वटी के इस्तेमाल से आप शुगर को कण्ट्रोल में रख सकते है. इसके नियमित इस्तेमाल से आपकी शुगर धीरे-धीरे कम हो जाएगी.

चन्द्रप्रभा वटी के नुकसान या साइड इफ़ेक्ट (Chandraprabha Vati Side Effect in Hindi )

हालाँकि यूँ तो चन्द्रप्रभा वटी के कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है फिर भी इसका इस्तेमाल करने से पहले आपको डॉक्टर से जरुर सलाह ले लेनी चाहिए. इसके अलावा जिन्हें अल्सर, थैलेसिमिया जैसे रोग है उन्हें चन्द्रप्रभा वटी का सेवन नहीं करना चाहिए.

किनकिन रोगों में चन्द्रप्रभा वटी का प्रयोग किया जाता है? (Chandraprabha Vati Uses in Hindi)

  • अंडकोष में सुजन
  • असंतुलित स्त्री हार्मोन
  • शुगर
  • आँखों की बीमारियों में
  • सांस लेने में दिक्कत होने पर
  • शीघ्रपतन और वीर्य संक्रमण में
  • यौन रोगों में
  • गर्भाशय की समस्या होने पर
  • एडी के दर्द में
  • कैंसर, खुजली, गठिया आदि में
  • मानसिक थकान में
  • याददाश्त कमजोर होने पर
  • ट्यूमर
  • त्वचा रोग में
  • थकान, डांट विकार, नपुसंकता आदि में
  • पीरियड में दर्द होने पर
  • पीलिया में
  • पेशाब में जलन होने पर या पेशाब नहीं आने पर
  • बार-बार गर्भपात होने पर
  • पथरी में
  • शुक्र दोष में
  • सर्दी-खांसी में

चन्द्रप्रभा वटी के बारे में कुछ जरुरी बातें 

  • इसका इस्तेमाल करने के दो हफ्ते में सुधार दिखना शुरू हो जाता है.
  • इसे दिन में दो बार लेना चाहिए. डॉक्टर से सलाह करके ले तो और भी अच्छा है.
  • इसे खाना खाने के बाद लेना चहिये.
  • अन्य दवाइयों की तरह इसकी कोई लत नहीं लगती है और ना ही यह आदत बनती है.
  • चन्द्रप्रभा वटी को अन्य दवाइयों की तरह शुरू करने और बंद करने से पहले डॉक्टर से सलाह ले लेनी चाहिए.
  • गर्भवती महिला डॉक्टर से पूछकर इस दवाई का सेवन करें.
  • स्तनपान कराने वाली महिला भी डॉक्टर से सलाह जरुर ले.
  • यह एक बहुत ही अच्छी आयुर्वेदिक ओषधि है जिसे हर वर्ग के लोग इस्तेमाल कर सकते है.
  • इसे रौशनी और नमी से दूर रखें.
  • दवा को बच्चों से दूर रखें.
  • गलती से दवा का ओवरडोज हो जाए तो डॉक्टर से सलाह ले.

चन्द्रप्रभा वटी इन दवाइयों के असर को कम कर देती है?

  • एंटीबायोटिक्स
  • मिथाइलडोपा
  • लिविडोपा
  • बिसफस्फोनेट्स

 

 

 

 

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*