क्लेवम 625 टेबलेट क्या है? इसके फायदे, उपयोग और नुकसान | Clavam 625 Tablet in Hindi

clavam 625 tablet in hindi

क्लेवम 625 टेबलेट (clavam 625 tablet in hindi) बेक्टेरियल इन्फेक्शन जैसे;- त्वचा, मूत्र मार्ग संक्रमण, फेफड़ो और वायुमार्ग,निचली श्वसन प्रणाली, सायनस,मध्यमार्ग और मध्य कान के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। यह एक एंटीबायोटिक दवा होती है। डॉक्टर इस दवाई का उपयोग टोन्सिलिटिस,निमोनिया,ब्रोंकाइटिस और गोनोरिया जैसे जैसी बीमारियों में देते है। क्लेवम 625 टेबलेट अमोक्सासिलिन(Amoxicillin) 500mg और क्लावुलानिक एसिड (Clavulanic Acid) 12mg के मिश्रण को मिलाकर बनाया जाता है।आइए आज हम आप को clavam 625 tablet के उपयोग के बारे में बताएंगे की इसका यूज़ कहा किया जाता है। इसके फायदे और नुकसान क्या है।

क्लेवम 625 टेबलेट का फायदे और उपयोग (Clavam 625 Tablet Benefits and Uses in Hindi)

क्लेवम 625 टेबलेट का उपयोग निम्नलिखित लक्षणों के इलाज में किया जाता है।

  • साइनस
  • टॉन्सिल
  • गले का संक्रमण।
  • मूत्र का संक्रमण
  • जोड़ो में दर्द का संक्रमण।
  • निमोनिया
  • ब्रोंकाइटिस
  • त्वचा का संक्रमण।
  • बैक्टेरियल इन्फेक्शन।
  • सेलूलियस
  • कान का संक्रमण।
  • गानरिआ
  • ऊपरी श्वसन नली संक्रमण।
  • फेफड़ो में इन्फेक्शन।
  • कान में फुंसी।
  • चूहे का काटना।
  • पायरिया।
  • हड्डी का संक्रमण।

इस दवाई का उपयोग अन्य बीमारियों के लिए भी उपयोग किया जाता है। इसके अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से सपर्क कर सकते है और उनसे जानकारी प्राप्त कर सकते है।

क्लेवम 625 टेबलेट में इस्तेमाल होने वाली सामग्री (Ingredients of Clavam 625 Tablet in Hindi)

क्लेवम 625 टेबलेट में निम्नलिखित सामग्री का उपयोग किया जाता है।

  • Amoxicillin
  • Clavulanic Acid

क्लेवम 625 टेबलेट कैसे काम करती है। (How Clavam 625 Tablet work in Hindi)

क्लेवम 625 टेबलेट एक एंटीबायोटिक दवाई होती है। जो बैक्टेरियल इन्फेक्शन को ख़त्म करने का काम करती है। यह दो दवाइयों के संयोजन से मिलकर बनती है। इस दवाई के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से सलाह ले सकते है।

क्लेवम 625 टेबलेट के दुष्प्रभाव /नुकसान (Clavam 625 Tablet Side Effect in Hindi)

क्लेवम 625 टेबलेट का उपयोग करने से आप को कई प्रकार के साइड इफ़ेक्ट हो सकते है, लेकिन यह साइड इफ़ेक्ट आप को महसूस नहीं होंगे। इसलिए इस टेबलेट का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले। जब भी आप को निचे बताए गए सूचि में से किसी भी लक्षण का अनुभव हो तो आप को तुरंत डाक्टर से संपर्क करना चाहिए।

क्लेवम 625 टेबलेट के इस्तेमाल करने में सावधानियाँ (Clavam 625 Tablet Precaution in Hindi)

क्लेवम 625 टेबलेट को इस्तेमाल करने से पहले उनके सावधानी के बारे में अवश्य पता कर लेना चाहिए। यदि आप को पहले सही कोई बीमारी है तो इस टेबलेट का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले। निम्नलिखित ऐसी कुछ सावधानियाँ है जिनको इस टेबलेट के उपयोग करने के पहले ध्यान में रखना बहुत आवश्यक होता है।

  • यदि आप को हृदय रोग,गुर्दे की समस्या या उच्चरक्तचाप से सबंधित कोई बीमारी है, तो आप इस टेबलेट का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।
  • यदि आप पहले से किसी अन्य विटामिन को ले रहे हो तो इसको उपयोग में लेन से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।
  • यदि आप को इस टेबलेट से लेकर एलर्जी है तो यूज़ करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।
  • यदि आप अतिसंवेदनशील या पेनिसिलिन जैसी समस्या है, तो आप इस टेबलेट का यूज़ न करे।
  • एल्कोहल या नशीले पदार्थ के साथ इस टेबलेट का उपयोग न करे।
  • स्तनपान करवाते समय इस टेबलेट का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से सलाह अवश्य ले।
  • प्रेगनेंसी के दौरान इस टेबलेट का उपयोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।
  • यदि आप अन्य किसी बीमारी से पीड़ित है तो इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।

क्लेवम 625 टेबलेट की पारस्परिक क्रिया (Drug Interaction of Clavam 625 Tablet in Hindi)

यदि आप क्लेवम 625 टेबलेट के साथ किसी अन्य दवाई का उपयोग करते हो तो आप को इसके नुकसान हो सकते है, या इस दवाई का असर कम हो सकता है। यदि इस्तेमाल के समय ऐसी कोई स्थिति पैदा होती है तो आप को डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। निम्नलिखित कुछ ऐसी दवाइया होती है, जिनके साथ इस टेबलेट को लेने से पारस्परिक क्रियाए होती है।

  • Macrolides
  • Warfarin
  • Allopurinol
  • Sertraline
  • Oral contraceptives

क्लेवम 625 टेबलेट अधिक मात्रा में उपयोग करने में होने वाले लक्षण (Clavam 625 Tablet overdose Symptoms in Hindi)

यदि आप इस टेबलेट का अधिक मात्रा में सेवन करते है तो आप के शरीर पर इसके खतरनाक असर हो सकते है। यदि आप को निम्नलिखित में से किसी भी लक्षण का आभास हो तो आप को तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

  • सिरदर्द होना।
  • शरीर में खुजली होना।
  • उलटी होना।
  • मचलाहट
  • पेट दर्द
  • त्वचा पर लाल चकते पड़ना।
Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*