क्रोसिन एडवांस टेबलेट के उपयोग, फायदे, सावधानियाँ Benefits & Uses of Crocin Advance tablet in Hindi

Crocin Advance tablet in Hindi

क्रोसिन टेबलेट का उपयोग (crocin advance tablet in Hindi) एक दर्द निवारक गोली के रूप में  किया जाता है। यह ग्लैक्सो स्मिथक्लाइन  फार्मास्युटिकल  द्वारा निर्मित एक नॉन स्टेरॉयडिल  एंटी इंफ्लामेन्ट्री दवाई है| जो शरीर में होने वाले बुखार को कम करने का कम करता है। इस दवाई का यूज़ अन्य बीमारियों को दूर करने क लिए किया जाता है। जैसे:- कान दर्द, पेट दर्द, सिर दर्द, गठिया सबंधी दर्द,फ्लू, मासिक दर्द आदि दर्द के उपचार के लिए किया जाता है। यह दवाई आसानीसे किसी भी मेडिकल स्टोर पर मिल जाती है। क्रोसिन टेबलेट ५०० एमजी  की मात्रा में भी उपलब्ध होती है। क्रोसिन टेबलेट उन मरीजों को भी दी जाती है जो कैंसर से पीड़ित है। या अन्य किसी बीमारी से ग्रसित है। पीलिया के इलाज में भी इस दवाई का उपयोग किया जाता है। पेरासिटामोल  टेबलेट के रूप में भी  उपलब्ध है। आइये आज हम आप को बताते है की क्रोसिन टेबलेट का उपयोग क्यों करना चाहिए, कैसे करना चाहिए और यह कैसे कम करती है| इसके कुछ साइड इफ़ेक्ट भी होते है। क्रोसिन टेबलेट का यूज़ करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लेना चाहिए।

क्रोसिन टेबलेट के उपयोग / फायदे (Crocin Tablet uses in Hindi)

क्रोसिन टेबलेट का उपयोग (Crocin advance tablet use in Hindi) आमतौर पर बुखार और दर्द निवारक बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। यह दवाई नॉन-स्टेरॉइड एंटी इंफ्लामेन्ट्री औषधि के रूप में किया जाता है। आइये आज जानते है इनके आलावा और किन-किन बीमारियों के लिए क्रोक्सिन टेबलेट का यूज़ किया जाता है।

  • सिर दर्द
  • पेट दर्द में ।
  • कान दर्द में।
  • दातो में होने वाले दर्द में।
  • पीरियड्स में होने वाले दर्द में।
  • मलेरिया में।
  • मासपेशियो में होने वाले दर्द में।
  • बुखार में ।
  • क्रोसिन में मुख्य घटक के रूप में पेरासिटामोल(paracetamol) का उपयोग किया जाता है।
  • हड्डियों और जोड़ो के दर्द के इलाज में।
  • फ्लू में।
  • गठिया के इलाज में।
  • प्रेग्नेंसी समय ब्रेस्ट में दर्द।
  • स्लिप डिस्क के इलाज में ।
  • एड़ियों में दर्द।
  • साइटिका में।
  • वाइरल फीवर में।
  • गर्भव्यवस्था में ऐंठन में।
  • माइग्रेन में।
  • किसी प्रकार की मोच के इलाज में।
  • चिकन गुनिया में।

क्रोसिन एडवांस टेबलेट के साइड इफ़ेक्ट/ दुष्परिणाम (Crocin advance Tablet side Effect)

क्रोसिन एडवांस टेबलेट के फायदे (Crocin advance tablet side effect in Hindi) के साथ-साथ इसके कुछ साइड इफ़ेक्ट भी होते है। यदि आप क्रोसिन एडवांस टेबलेट का यूज़ अधिक मात्रा में या बिना किसी डॉक्टर की सलाह से लेते है तो यह भी आप के लिए हानिकारक हो सकता है। इसलिए इस दवाई का उपयोग करने से पहले डॉक्टर या किसी जानकर व्यक्ति से सलह अवश्य ले। आज हम आप को बताएंगे की यदि आप इस दवाई के निर्देशों का पालन नहीं करते हो तो आप को निम्नलिखित साइड इफ़ेक्ट हो सकते है।

  • नींद आना।
  • पेट फूलना।
  • मचली या उल्टी होना।
  • मुँह सुखना या बार-बार प्यास लगना।
  • हाथ पेरो में सूजन।
  • एसिडिटी की समस्या। पेट में गैस होना।
  • भूख कम लगना।
  • लिवर में क्षति होने की समस्या।
  • कमजोरी आना।
  • दस्त लगना|
  • स्वाश लेने में परेशानी।
  • शरीर पर लाल चकते पड़ना ।

क्रोसिन टेबलेट में इस्तेमाल होने वाली सामग्री (Ingredients of Crocin advance tablet in Hindi)

  • क्रोसिन टेबलेट में मुख्यतौर पर  पेरासिटामोल (paracetamol) के सामग्री का इस्तेमाल  किया जाता है।

क्रोसिन एडवांस टेबलेट के इस्तेमाल करने में सावधानियाँ (Crocin advance tablet Precaution in Hindi)

  • वैसे तो क्रोसिन एडवांस टेबलेट का उपयोग दर्द निवारण और नार्मल भुखार के इलाज के लिए किया जाता है। इस दवाई का यूज़ करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले। इस दवाई के उद्पाद के ऊपर भी कुछ सावधानियाँ या निर्देश लिखे हुए होते है। उन को अवश्य पढ़े और इसके नियमो का पालन करे।
  • यदि आप को इस से एलर्जी है तो इसका सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए । इसके सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलह अवश्य ले।
  • यदि कोई महिला गर्भ अवस्था या स्तनपान करवाती है तो उस समय गोली का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।
  • यदि पहले से आप किसी विटामिन दवाई का सेवन कर रहे हो तो इसके लिए डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।
  • यदि आप शराब के सेवन के दौरान क्रोसिन टेबलेट का यूज़ करते हो तो डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।
  • यदि पहले से ही आप को कोई बीमारी है तो इस गोली का इलाज करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।

क्रोसिन एडवांस टेबलेट अधिक मात्रा में लेने पर होने वाले लक्षण (Crocin advance tablet overdose symptoms in Hindi)

  • क्रोसिन एडवांस टेबलेट को यदि आप निर्देशानुसार लिए जाए तो इसका कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता।  परन्तु यदि आप इसका अधिक मात्रा में सेवन करते हो तो इसके साइड इफ़ेक्ट आप के शरीरी में  दिखाई देते है। परन्तु यह आप को महसूस नहीं होते है।
  • घबराहट होना।
  • अधिक पसीना आना।
  • लिवर डैमेज होना।
  • मचलन या उल्टी होना।
  • मुँह का स्वाद बनना।
  • पेट में मरोड़ होना।
  • घबराहट होना।
Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*