बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर का अंतर क्या है?

difference between baking powder and baking soda in hindi

आमतौर पर रसोई में बहुत सारी चीजें इस्तेमाल की जाती हैं जो हमारे खाने को स्वादिष्ट बनाती हैं। उनमें ही कुछ बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर भी है जो हमारे खाने को शीघ्र बनाने में सहयोग करते हैं। आप ज़रुर सोचती होंगी कि बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर यह दोनों चीज़े क्या है और इसके इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं? आज हम आपको बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर के बारे में पूरी जानकारी देना चाहते हैं और इसके बारे में हम ज़रूर बताएँगे कि इन दोनों में अंतर क्या है?

बहुत लोगों के मन में यह सवाल होता है कि बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर में अंतर क्या होता है। कुछ लोग ऐसा समझते है कि ये दोनों चीज़ एक ही है। कुछ लोगों के मन में ऐसा प्रश्न उठता है कि बेकिंग पाउडर और बेकिंग सोडा इन दोनों वस्तुओं में क्या अलग बात है? आज हम आपको इसके बारे में विस्तार पूर्वक बताते हैं।

  • यह दोनों ही खाद्य पदार्थों को फुलाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह दोनों ही तरह के पाउडर सभी घर में ज़रूर मौजूद होते है। बे
  • किंग सोडा और बेकिंग पाउडर का इस्तेमाल आटा मैदा ऐसी चीजों में किया जाता है। दोनों चीज़ों का इस्तेमाल आटा और मैदा फुलाने के लिए किया जाता है।
  • आजकल इन चीज़ों का उपयोग केक पकाने के लिए भी किया जाता है। यह दोनों चीज़ उपयोग करने से आटा औऱ मैदा में हवा भर जाता है। इसका कारण यह है कि यह दोनों वस्तुओं आटा या मैदा का मिश्रित में रिएक्ट होते हैं ।और उसको फुलाने के लिए मदद करती है।

बेकिंग सोडा

जो कंटेंट बेकिंग सोडा में होता है उसको सोडियम कार्बोनेट मौजूद होता है। जब बेकिंग सोडा एसिड के पास आता है तब वह रिएक्ट करता है। यह रिएक्शन का कारण यह है कि बेकिंग सोडा के साथ कार्बन डाइऑक्साइड प्रयोग होता है यह कार्बन डाइऑक्साइड हवा में होता है इसके कारण खाना फूलता हैं। एक कार्य है कि सिर्फ बेकिंग सोडा ही खाने में उपयोग नहीं ही करते हैं। जब बेकिंग सोडा को गर्म पानी में डालते हैं वह पानी मे बुलबुले बनाता है और यह बुलबुले कुछ समय के बाद गायब भी हो जाते है इसके ही कारण बेकिंग सोडा खाने में नहीं डालते है।

अक्सर आपने देखा होगा कि बेकिंग सोडा के साथ एसिड का प्रयोग किया जाता हैं। बेकिंग सोडा के साथ एसिड का प्रयोग इसलिए किया जाता है क्योंकि जब खाने में ज्यादा बेकिंग सोडा डल जाता है तो खाने का मैटेलिक टेस्ट बढ़ जाता है और इसको रोकने के लिए एसिड का उपयोग होता है एसिड का इस्तेमाल से खाने का टेस्ट बैलेंस करने में सहायक होता है।

बेकिंग पाउडर

बेकिंग पाउडर में सोडियम बाइकार्बोनेट अधिक मात्रा में शामिल होता है लेकिन इसमें पहले से ही ऐसे डिंग एजेंट भी मौजूद होता है जो किसी भी चीज को सुखाने के लिए काम आता है आम तौर पर इसमें स्टार्च भी शामिल होता है। यह कैसा पाउडर है जो किसी भी वस्तु में नमी बनाए रखने का काम करता है।

बेकिंग पाउडर सिंगल या डबल एक्टिंग पाउडर के रूप में बाजार में उपलब्ध होता है। किसी भी वस्तु को सीखने या बनाने के पहले बेकिंग पाउडर को उस वस्तु में अच्छी तरह से मिला दिया जाता है ताकि वह खाने की चीज और भी अधिक फुलावट वाली बने।

डबल एक्टिंग पाउडर दो तरह से प्रक्रिया करता है जिसमें बेकिंग से पहले थोड़ी देर पहले उसमें हम पाउडर डाल सकते हैं और दूध की प्रक्रिया में कुछ गैस कमरे के तापमान के अनुसार उस पाउडर को हम आटे में मिला सकते हैं उसके बाद उसे ओवन में उच्च ताप पर पकाने से वह उचित मात्रा में फूल जाता है। इससे उस भोजन में मौजूद गैस का अधिकांश भाग निकल जाता है और जितनी जरूरत होती है उतना वह फूल जाता है।

इन दोनों में अंतर क्या है?

बेकिंग सोडा का उपयोग और व्यंजनों में किया जाता है जिनमें कुछ मात्रा में अम्लीय तत्व शामिल होते हैं जैसे कि टेटर, छाछ या खट्टे रस की क्रीम। सरल शब्दों में कहें तो मुख्य रूप से बेकिंग सोडा का इस्तेमाल खट्टे व्यंजनों को बनाने के लिए किया जाता है।

इसके विपरीत बेकिंग पाउडर का उपयोग आमतौर पर अम्लीय घटकों में नहीं किया जाता है क्योंकि पाउडर में पहले से ही कार्बन डाइऑक्साइड के उत्पादन को करने के लिए इसमें आवश्यक एसिड मौजूद होता है। ऐसे मौजूद होने की वजह से यह किसी भी भोज्य पदार्थ को जल्दी फुलाने और उस को पकाने में सहायक होता है। यह किसी भी बेक्ड मिश्रण में उसके अमला स्तर से कुछ हद तक भिन्न हो सकता है एक अपने आप बेक हो जाने वाला कोई भोजन आपको बेक्ड भोजन के बीच सही संतुलन खोजने में सहायक होता है।

कुछ भोजन ऐसे होते हैं जिनमें बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर दोनों का ही इस्तेमाल किया जा सकता है आमतौर पर इसका यह कारण है कि बेकिंग पाउडर में एसिड पहले से मौजूद होता है जिसकी वजह से उसमें किसी भी चीज को और जोड़ने की आवश्यकता नहीं होती है जबकि बेकिंग सोडा द्वारा ऑफसेट करने की आवश्यकता होती है। किसी भी भोजन के उत्पाद उसमें से गैस निकालने के लिए यह दोनों ही बहुत अधिक कारगर होते हैं।

अंत में कहें तो बेकिंग सोडा का उपयोग तब किया जाता है जब कोई खट्टा पदार्थ शामिल हो जिसमें अधिक मात्रा में अम्ल मौजूद हो जबकि बेकिंग पाउडर का इस्तेमाल ऐसे पदार्थों में किया जाता है जिनमें अम्ल की मात्रा ज्यादा ना हो तब भी उसे फुलाया जा सके।

बेकिंग सोडा का इस्तेमाल काई जगहों मैं किया जाता है:-

मैदा गुंदने के लिए और ड्रिंक बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
कपड़े धोने के साबुन में अगर आप बेकिंग सोडा इस्तेमाल किया जाता तो कपड़े अच्छी तरह से घूलेंगे।

आप अपने घर के टाइल्स साफ करने में भी बेकिंग सोडा का इस्तेमाल कर सकते है और इसकी सहायता से टाइल्स अधिक चमकदार हो जाएंगी।

आप चांदी के बर्तन या गहने में भी बेकिंग सोडे का इस्तेमाल कर सकते है इससे चांदी औऱ अधिक चमकदार बन जाती है। इसके लिए आप एक टी स्पून बेकिंग सोडा एक ग्लास पानी में डाल डाल कर चांदी के गहने व बर्तन को उस पानी में डालकर कपड़े से साफ करें तो वह पूरी तरह से चमक जाएंगे।

एक आवश्यक बात जो ध्यान रखने योग्य है कि बेकिंग पाउडर और बेकिंग सोडा इन दोनों चीज़ों की एक एक्सपायरी डेट होती है और जब आप लोगों उसको खरीदते समय इसकी एक्सपायरी डेट चेक करना ना भूले।

अन्यथा इसे आप के व्यंजन में उपयोग करने से आपके स्वास्थ्य को हानि पहुंच सकती है। साथ ही इसका अधिक इस्तेमाल आप के व्यंजन को भी पूरी तरह से बिगाड़ सकता है उसको पूरी तरह से खट्टा बना सकता है।

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*