गंधक रसायन की जानकारी – Gandhak Rasayan in Hindi

Gandhak Rasayan in Hindi

गंधक रसायन (gandhak rasayan in hindi) एक उत्कर्ष्ट रक्त शोधक है। गंधक मे से सड़े हुए अंडे के जैसी बदबू आती है, इसलिए इसको गंधक कहा जाता है| यह चार रंग का होता है पीला, काला, सफ़ेद और लाल। इसमें पिले रंग का उपयोग आंतरिक उपयोग के लिए किया जाता है, सफ़ेद रंग का गंधक बाहरी उपयोग के लिए किया जाता है। आयुर्वेद मे सल्फर को बहुत प्रकार के रोगो को ठीक करने के लिए प्रयोग मे लिया जाता है। यह त्वचा रोग, गठिया, बूढ़े हुए प्लीहा, मूत्रवर्धक है और यह पितृ को बढ़ाता है आदि मे उपयोगी है।

गंधक रसायन त्वचा के रोगियों के लिए बहुत अच्छी दवा है। सल्फर आंतरिक और वह दोनों तरह से त्वचा से संबधित बीमारियों को ठीक करने मे काम आता है।

गंधक रसायन की सामग्री इन हिंदी- Ingredients of Gandhak Rasayan in Hindi

  • इलायची
  • गाय का दूध
  • आंवला
  • अदरक
  • भृंगराज
  • अलसी
  • दालचीनी
  • पत्रा
  • गिलोय
  • हरतकी
  • नागकेसर

गंधक रसायन के लाभ और फायदे इन हिंदी- Benefits of Gandhak Rasayan in Hindi

गंधक रसायन इन बीमारियों के इलाज मे काम आती है –

  1. यह शरीर के पाचन को ठीक करता है, शरीर को शक्ति और पोषण देता है।
  2. गंधक रसायन मे त्वचा की सूजन को भी दूर करने के गुण होते है।
  3. यह घावों को जल्दी भरने मे मदद करता है और इससे दर्द मे भी राहत मिलती है।
  4. यह शुक्राणु की कमी को भी ठीक करने मे मदद करता है।
  5. गंधक रसायन पेट का दर्द, भूख, मधुमेह, खुजली, बवासीर, गठिया और गाउट आदि के इलाज मे उपयोग किया जाता है।
  6. गंधक रसायन एक उम्र बढ़ने विरोधी दवा है।
  7. गंधक रसायन प्रतिरक्षा मे सुधार के लिए प्रयोग किया जाता है।
  8. यह रंग को निखारता है।

गंधक रसायन के चिकत्सीय उपयोग- Uses of Gandhak Rasayan in Hindi

  • गठिया
  • पुराना बुखार
  • गैस विकार
  • भंगदर
  • यौन रोग
  • रूसी, फोड़े, फुंसी, मुँहासे, दाद-खाज खुजली
  • खून साफ़ करने के लिए
  • यह एक रसायन है, जो जीवन शक्ति को बढ़ाती है, जिसके सेवन से स्मृति बढ़ती है।

गंधक रसायन सेवन करने का तरीका

  1. गंधक रसायन रोज 1-3 गोली रोज पानी के साथ ले सकते हो।
  2. इसे दिन मे दो बार लें सकते है।
  3. पांच से 12 साल तक के बच्चे को आप 250 ग्राम की मात्रा मे इसे दे सकते है।
  4. इसे भोजन के बाद ही लेना चाहिए।
  5. अगर इसे आप लम्बे समय से ले रहे है तो इसे 1 महीने ले फिर 15 दिन लेना छोड़ दे ,और फिर लें। इस तरह से गैप बना कर लें।
  6. इस दवा का कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं है, पर इसे लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करे।

गंधक रसायन के साइड इफ़ेक्ट- Gandhak Rasayan Side Effects in Hindi

रिसर्च के आधार पर गंधक रसायन के निम्न साइड इफ़ेक्ट देखे गए है-

  • पेट ख़राब होना
  • पेट की ऐंठन के साथ ढीले मल
  • शरीर मे सूजन हो जाना
  • ऐसे मे दवा का दोसे काम करें।

गंधक रसायन क्यों नहीं खाए-

गंधक रसायन का सेवन करते समय ज्यादा खट्टा और पितृ बढ़ाने वाला भोजन नहीं करें। बहुत ज्यादा साग भी नहीं खाना चाहिए।

गंधक रसायन कब नहीं लें-

  1. प्रेगनेंसी मे इसका कभी भी सेवन नहीं करें|
  2. शरीर मे यदि कोई भी रोग है तो डॉक्टर की राय के बिना इसका सेवन कभी न करें।

गंधक रसायन का कम्पोजिशन- Gandhak Rasayan

इंग्रेडिएंट्स ऑफ़ गंधक रसायन

  1. गाय का दूध
  2. दाल चीनी
  3. तेजपत्ता
  4. गिलोय
  5. सोंठ
  6. शुद्ध गंधक 10 ग्राम
  7. निम्न का काढ़ा जूस
  8. छोटी इलाइची
  9. नागकेशर
  10. त्रिफला  (और पढ़े:- कायम चूर्ण के बारे में )

गंधक रसायन की प्राइस (Gandhak Rasayan price)

गंधक रसायन बहुत सारी कंपनियों द्वारा बनाई जाती है जैसे बैधनाथ गंधक रसायन, धूपेश्वर गंधक रसायन, डाबर, पतंजलि गंधक रसायन वती और बहुत सारी। वैसे गंधक रसायन की कीमत अलग अलग है और आप गंधक रसायन की कीमत ऑनलाइन भी चेक कर सकते है।

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*