आयोडीन की कमी से क्या होता है? जानिए इसके लक्षण,कारण और उपचार | Deficiency of Iodine Symptoms, Treatment and Precaution in Hindi

Deficiency iodine in hindi

आयोडीन (iodine in hindi) एक ऐसा खनिज पदार्थ है जो आयोडीन की कमी से थायराइट की समस्या हो सकती है जो हमारे शरीर के स्वास्थ के लिए हानिकारक होते है और थायराइट हार्मोन हमारे शरीर और दिमाग को संतुलित करने में मदद करता है रेकमेंडेशन के हिसाब से 15o माइक्रोग्राम प्रतिदिन लेना जरुरी है थायराइट की कमी से बच्चो में बौंपन या मानसिक विकास में कमी हो सकती है ऐसे बच्चों को मंदबुद्वि भी कहते है।

आयोडीन की कमी के लक्षण (Deficiency of Iodine Symptoms in Hindi)

शरीर में खून की कमी

  • बाल टूटना
  • वजन बढ़ना
  • मस्तिष्क या डिप्रेशन
  • कब्ज
  • तनाव

आयोडीन की कमी के इलाज (Deficiency of Iodine Treatment in Hindi)

  • दूध:- दूध पीने से शरीर में ऊर्जा और विटामिन मिलती है और एक ग्लास दूध में 54 माइक्रोग्राम आयोडीन पाया जाता है। जिससे हमारे शरीर की मांसपेशियों में आराम मिलता है।
  • दही:- दही खाने से हमारी पाचन तंत्र क्रिया को बनाये रखते है और दही में 56 माइक्रोग्राम आयोडीन पाया जाता है ।
  • लहसुन:- लहसुन में भी आयोडीन की भरपूर मात्रा पाई जाती है।
  • आलू:- भुजे हुए 2या 3 आलू सुबह खाना चाहिए इसमें 40% आयोडीन पाया जाता है।
  • सी फ़ूड:- सी फ़ूड का प्रयोग बच्चे की मस्तिष्क को तेज करने की लिए किया जाता है और आयोडीन की भरपूर मात्रा देना बहुत जरुरी है इसमें मौजूद प्रोटीन मस्तिष्क मजबूत बनाते है।

स्तनपान या गर्भवती महिलाएँ को मल्टीविटामिन लेते रहना चाहिए।

  • मछली और अंडे का भी सेवन कर सकते है।
  • घी, सूखे मेव या दूध का सेवन करे।

आयोडीन की कमी के रोकथाम के उपाय 

मिट्टी के नीचे उगने वाले खाद पदार्थो का सेवन करे जिसमे सप्लीमेंट्रस, विटामिन या आयोडीन शामिल हो उसी पदार्थो का सेवन करे।

आयोडीन की कमी के सावधनियां (Deficiency of Iodine Precautions in Hindi)

यदि आपको नीचे दिए गए किसी भी साइड इफेक्ट्स के बारे में पता चलता है तो तुरंत अपने नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

  • यदि जब व्यक्ति के शरीर का वजन बढ़ने लगता हो तो उसके शरीर में ऊर्जा प्रदान करने वाली कैलोरी गति को धीमा कर देती है और कैलोरी चर्बी के रूप से जमा हो जाती है और वजन बढ़ने लगता है।
  • यदि काम करने पर थकान या कमजोरी लगती है तो समझ जाना चाहिए की व्यक्ति के शरीर में आयोडीन की कमी है।
  • जब किसी व्यक्ति के शरीर में थायराइड हार्मोन की कमी होती है तो उसके बाल टूटने की संभावना बढ़ जाती है।
  • यदि आपके शरीर में थायराइड हार्मोन या आयोडीन की कमी होती है तो उसे त्वचा में सिकुड़न आ जाती है।
  •  जब शरीर में थायराइड हार्मोन की कमी महसूस होती है तो ठंड लगती है।
  • जब व्यक्ति के शरीर में दिल की धड़कन की गति धीमी हो जाती है और जिससे व्यक्ति को कई बार चक्कर आने लगते है।
  • भूलने की बीमारी
  • आयोडीन की कमी से घाघ रोग और गले में सूजन
  • दम घुटना
  • चेहरे में सूजन
  • बहुत अधिक नींद आना

आयोडीन की कमी से कुछ जानकारियाँ 

यदि आपको इस बीमारी के बारे में पहले पता लग जाता है तो आप अपने डॉक्टर को इन सभी लक्षण के बारे में बातये जिससे आपका सही समय पर इलाज हो सके नहीं तो इसके दुष्प्रभाव बढ़ जायेंगे यदि आयोडीन की कमी को जल्द से जल्द ठीक नहीं किया गया तो विटामिन और सप्लीमेंट या दवा अच्छी तरह से काम नहीं करेगी और कभी -कभी साँस लेने में दिक्क्त या खाना खाने में दिक्क्त होती है ऐसी स्थिति में कई बार थायराइड ग्रंथि को निकना पड़ सकता है।

आयोडीन की कमी के दुष्प्रभाव (Deficiency of Iodine Side Effect in Hindi)

आयोडीन की कमी से प्रेगनेंसी में कठिनई होती है और गर्भपात होने का खतरा या छोटे शिशु का वजन कम होने की संभावना हो सकती है और उनके सोचने समझने की कमी या दीमक की कमी और गले में सूजन या थायराइड ग्रंथि में सूजन और चेहरे में रूखापन, दस्त, उल्टी बार-बार चक्कर आना और आपने भोजन के साथ आयोडीन नमक का प्रयोग करना चहिये जिससे आपके आयोडीन युक्त नमक की मात्रा पूरी हो सके ।

आपको कितना आयोडीन इस्तेमाल करने की जरूरत है|

  • दिन भर में हमें एक छोटे चम्मच से भी कम आयोडीन इस्तेमाल करना चाहिए
  • डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही आयोडीन की मात्रा का इस्तेमाल करें ।
  • 0 से 1 वर्ष के बच्चे के लिए 50-90 माइक्रोग्राम प्रतिदिन
  • गर्भवती महिला के लिए 220-250 माइक्रोग्राम प्रतिदिन
  • स्तनपान वाली महिलाओं के लिए 250-290 माइक्रोग्राम
  • 5 से 11 वर्ष के बच्चे के लिए 90-120 माइक्रोग्राम प्रतिदिन
Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*