कुंकुमादि तेलम |Kumkumadi Tailam in Hindi

Kumkumadi Tailam in Hindi

कुंकुमादि  तेल का उपयोग (kumkumadi Tailam in Hindi) चेहरे को सुन्दर और चमकाने के लिए किया जाता है। कुंकुमादि तेल को केसर तेल के नाम से भी जाना जाता है। इस तेल का उपयोग करने से चेहरे के ऊपर से काले धब्बे, मुहासे, हटाने के लिए किया जाता है। यह एक आयुर्वेदिक तेल होता है। इसको बनाने के लिए विभिन्न  जड़ी-बूटियों जैसे:- हल्दी, कमला, कुमकुमा, नागकेसर, लक्षा,चन्दन, मधुर, तेजपत्ता, पलाश कुसुम, दरहरिद्रा,सुरभि, पयच, वटी, वातमकुरा, गोरोचन,पद्मका इन सभी से मिलकर बनाया गया है। इस तेल का उपयोग मॉइशर के रूप में भी किया जाता है। यह विशेष रूप से शुष्क त्वचा के लिए उपयोग किया जाता है। वैसे तो इसका उपयोग किसी भी त्वचा के लिए किया जाता है। कुंकुमादि तेल त्वचा को चमकाता है और निखार लाता है। यह हाइपरपिग्मेंटेशन के इलाज के लिए बहुत ही लाभदायक तेल है। जो रासायनिक आधारित क्रीम की तुलना में त्वचा के लिए बहुत ही फायदेमद है। यह कुंकुमादि तेल पतंजलि का एक उत्तम प्रोडक्ट है। और इसका हमारे चेहरे पर कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं होता है।

कुंकुमादि तेल के फायदे / उपयोग (Benefits and Uses of Kumkumadi Tailam in Hindi)

कुंकुमादि तेल का उपयोग (Kumkumadi Tailam Usese in Hindi) आमतौर पर चेहरे के निखार के लिए किया जाता है। यह शुष्क त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसे हम मॉइशर के तोर पर भी उपयोग में लाते है। कुंकुमादि तेल का यूज़ करने से और भी फायदे होते है जो निम्नलिखित है।

  • यह त्वचा से सबंधित सभी रोगो को ख़त्म करता है।
  • चेहरे के ऊपर से काले धब्बे और आखो के निचे होने वाले काले घेरे को ख़त्म करने का काम करता है।
  • मुहासे हटाने में भी इसका उपयोग किया जाता है।
  • कुंकुमादि तेल में केसर और चन्दन होता है। जिससे त्वचा में होने वाले टेनिंग को काम किया जाता है। जिससे त्वचा को पोषण मिलता है।
  • इस तेल का उपयोग केवल बाहरी यूज़ के लिए किया जाता है।
  • यह एंटी एन्जाक का काम करता है । जिससे स्किन जवां दिखती है।
  • इस तेल का यूज़ नाक के लिए भी किया जाता है। नाक में इसके ३-४ बून्द डालने पर पित्त को ठीक किया जा सकता है।
  • इस तेल को त्वचा पर लगाने से उसकी कोशिका निकल जाती है। जिससे चेहरा चमकता है।
  • इस तेल को चेहरे पर लगाने से झुरिया साफ हो जाती है।
  • इस तेल से चेहरे पर मालिश करने से ब्लड सर्कुलेशन ठीक हो जाता है।
  • जिसकी स्किन शुष्क है वह इसे रात में लगाकर सो जाये और सुबह उठाकर धो ले।
  • कुकमदी तेल में एंटोक्सिडेंट, एंटीबॉयटिक और एंटी -इन्फ्लमेटरी के गूढ़ होते है। जिसके कारन त्वच में होने वाली सूजन को रोकता है।
  • इसका यूज़ करने से चेहरे के रंग में भी सुधार होता है।
  • इसे हाइपरपिग्मेंटेशन के इलाज में भी उपयोग किया जाता है।
  • मस्से को ख़त्म करने के लिए भी इसका यूज़ किया जाता है।
  • घाव के निशान को ठीक करने के लिए भी इसका यूज़ किया जाता है।
  • गाल पर भूरे रंग के चकते को भी ठीक करता है।
  • इसका यूज़ ब्यूटी आयल के तोर पर किया जाता है।
  • यह एक हर्बल और वानस्पतिक तेल होता है।

कुंकुमादि तेल के नुकसान/ साइड इफ़ेक्ट (Kumkumadi Tailam Saide Effect in Hindi)

कुंकुमादि तेल का उपयोग करने से पहले इसके एलर्जी के बारे में पता कर लेना चाहिए की यह आप के स्किन पर यूज़ करने लायक है की नहीं। यदि इसका यूज़ करने पर आप के शरीर पर खुजली या लाल चकते हो रहे हो तो इसका यूज़ करना बंद कर दे और किसी जानकर व्यक्ति से सलाह ले। वैसे तो इसका कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता है। जिसकी स्किन ऑइली है उसे इस तेल का कम यूज़ करना चाहिए। इस तेल का यूज़ करने से त्वचा सुन्दर और निखरती है। इसके कुछ साइड इफ़ेक्ट भी होते है। जो निम्नलिखित है।

  • चेहरे पर खुजली होना।
  • गाल पर लाल चकते पड़ना|

प्रयोग विधि (Kumkumadi Tailam Experiment Method in Hindi)

कुंकुमादि तेल का उपयोग करना बहुत ही आसान है। इसका यूज़ करने से पहले चेहरे को अच्छे से धो ले और तेल की ३-४ बून्द अपनी उंगली पर ले उसके बाद इस तेल को चेहरे पर लगाए और उसकी १०-१५ मिनिट तक अच्छे से मालिश करे। जिसके स्किन शुष्क या ड्राय है वह इसे रत में लगाके चेहरे को सुबह धो सकते है। जिससे यह पूरी तरह त्वचा में प्रवेश करके गंदगी को साफ कर ले।और आपका चेहरा साफ और क्लीन हो जाता है । जिससे चेहरा सुन्दर और जवां दिखता है।

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*