मेफ्टाल स्पास टैबलेट के प्रयोग इसके उपयोग, फायदे और साइड इफेक्ट्स और चेतावनी | Meftal Spas Tablet In Hindi, Uses, Benefits, Side Effects and Precautions

Meftal Spas Tablet In Hindi

Meftal Spas Tablet In Hindi

माहवारी के दर्द, मासिक धर्म के दौरान दर्द, बुखार, पेट दर्द, आंतो में दर्द, सुजन, दांत में दर्द, पीरियड्स में अधिक रक्तस्त्राव, मांसपेशियों में ऐंठन, जोड़ो में दर्द आदि में मेफ्टाल स्पास दवाई का प्रयोग किया जाता है. एक तरह से इस दवाई को संजीवनी बूटी कहना भी गलत नहीं है. इसे ब्लू क्रास ने बनाया है.

यह दवाई आपको आसानी से किसी भी केमिस्ट की दूकान या ऑनलाइन स्टोर पर मिल जाएगी. इस दवाई में मेफेनेमिक एसिड और ड्राइसाइक्लोमीन होता है. इस दवाई को लेने से दर्द में आराम मिलता है. खासतौर पर इस दवाई का प्रयोग माहवारी के समय होने वाले दर्द और एंठन में किया जाता है.

मेफ्टाल स्पास का प्रयोग कब किया जाता है?

इस दवाई के प्रयोग की सलाह डॉक्टर बुखार, सिरदर्द, पेट दर्द, मांसपेशियों में दर्द, जोड़ो में दर्द, मासिक धर्म के दौरान होने वाला दर्द, माइग्रेन आदि में देते है. इस दवाई को डॉक्टर सिमित मात्रा में लेने की सलाह देते है जो की बीमारी की गंभीरता को देखते हुए दी जाती है.

मासिक धर्मं के दौरान इस दवाई को जरुर ले, दर्द में तुरंत राहत मिलेगी. इस दवाई को हमेशा खाना खाने के बाद ही लिया जाता है. इन सब के अलावा आप डॉक्टर से विचार-विमर्श करके ही इस दवाई को ले.

यह दवाई कैसे काम करती है?

मेफ्टाल स्पास दवाई (Meftal Spas Tablet In Hindi) में दो तरह के घटक होते है मेफेनेमिक एसिड और ड्राइसाइक्लोमीन. इनमे ड्राइसाइक्लोमीन पेट और आंतो में होने वाले दर्द, सुजन में आराम पहुंचाता है और मेफेनेमिक एसिड बुखार को कम करता है. इसके अलावा मांसपेशियों और मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द को भी कम करने में मदद करता है.

मेफ्टाल स्पास दवाई के लाभ

जैसा की उपर बताया गया है की इस दवाई कब-कब उपयोग किया जाता है और यही इसके लाभ भी है. यह दवाई पेट दर्द, आंतो में दर्द, बुखार, सुजन, मांसपेशियों में दर्द, मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द, जोड़ो में दर्द, ऐंठन, बदन दर्द, गठिया, पेट में मरोड़, दांतों में दर्द आदि में यह आराम पहुंचाती है.

मेफ्टाल स्पास को उपयोग करने का सही तरीका

यह दवाई रोगी की आयु, बीमारी, रोगों का चिकित्सा इतिहास और अन्य सभी कारकों को ध्यान में रखकर ही दी जाती है. इस दवाई को डॉक्टर सीमित मात्रा में रोग की गंभीरता को देखते हुए अपने हिसाब से देते है. इसलिए इस दवाई का प्रयोग सिर्फ डॉक्टर की सलाह के बाद ही करना चाहिए.

लड़कियों के लिए कैसे फायदेमंद है यह दवाई?

मेफ्टाल स्पास दवाई का प्रयोग लड़कियों की स्कूल में भी किया जाता है जिससे वे इस दवाई के प्रति जागरूक हो सके. लड़कियों को माहवारी और पीरियड्स के दौरान काफी दर्द होता है, जिसकी वजह से वे बहुत परेशान रहती है और कोई काम नहीं कर पाती है. इसमें यह दवाई बहुत आराम पहुंचाती है.

मेफ्टाल स्पास के साइड इफेक्ट्स

अन्य सभी दवाइयों की तरह इस दवाई के भी कुछ साइड इफ़ेक्ट है. लेकिन इसके दुष्प्रभाव अन्य दवाइयों की तुलना में कम है. इसके सेवन करने से चक्कर आना, नींद आना, पेट में दर्द, खुजली, मुहं का सुखना, कब्ज, उलटी, पसीना आना जैसे साइड इफेक्ट्स हो सकते है.

लेकिन यह हर किसी को हो यह जरुरी नहीं है. इस दवाई को डॉक्टर रोग की गंभीरता के हिसाब से देता है और साइड इफेक्ट्स के जोखिम को कम करने के लिए धीरे-धीरे अपनी खुराक बढाता है. इसलिए किसी भी तरह के दर्द में एक बार डॉक्टर से सलाह जरुर ले.

मेफ्टाल स्पास दवाई के संबध में चेतावनी

मेफ्टाल स्पास दवाई गर्भवती महिलाओं के लिए ठीक नहीं है, इसलिए इसको बिना डॉक्टर की सलाह के ना ले. इसके अलावा जो महिलाएं स्तनपान करवाती है उन्हें इस दवाई को लेने के बाद कई तरह के साइड इफेक्ट हो सकते है. इसलिए इसे डॉक्टर की सलाह के साथ ले.

इस सबके बावजूद इसके साइड इफेक्ट्स बहुत ही कम है. इस दवाई के सेवन से कीडनी और लीवर पर किसी तरह का असर नहीं होता है इसलिए इसे आप बिना डर के भी ले सकते है. बस सिर्फ गर्भवती और स्तनपान करवाने वाली महिलाएं डॉक्टर की सलाह से ले तो अच्छा रहेगा.

इन बीमारियों में मेफ्टाल स्पास का सेवन ना करें

हृदय रोग, लीवर रोग, थायराइड, गुर्दे का कैंसर, गुर्दे से संबधित रोग, एनीमिया, अस्थमा आदि में इस दवाई का सेवन नहीं करना चाहिए अन्यथा इसके विपरीत प्रभाव हो सकते है.

इस दवाई के बारे में डॉक्टर क्या राय देते है

डॉक्टर के अनुसार यह कम समय में उपयोग के लिए बहुत ही अच्छी दवा है लेकिन इसे लम्बे समय तक उपयोग करने से गुर्दे की समस्याएं और पेट में रक्तस्त्राव की समस्या हो सकती है. अगर आप मेफ्टाल स्पास दवाई का सेवन करते है तो आपको शराब पीने से बचना चाहिए.

2 Comments

  1. meftal spas ko jyadatr log pet dard me dete h or 8-9 bar ke bad is davai k asar hona band ho jata h. is dava ko jyadatr doctor mana karte h

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*