ओवेरियन कैंसर के लक्षण, कारण और इलाज | Ovarian Cancer Reason, Symptoms and Treatment in Hindi

ovarian cancer in Hindi

लोकप्रिय अभिनेत्री मनीषा कोइराला ने 2013 में ओवेरियन कैंसर (ovarian cancer in hindi) को मात दी थी| इसके लिए उन्होंने अमेरिका में इसका इलाज करवाया था| उनका कहना है की कैंसर ऐसी बीमारी है जिसमे समझने में डॉक्टरों को सालों लग जाते है| इससे आप पता लगा सकते है की कैंसर कितनी खतरनाक और जानलेवा बीमारी है|

मनीषा का लगभग 6 महीने तक इलाज चला था और इस दौरान कई किमोथैरेपी और सर्जरी की गई थी लेकिन अब वो कैंसर मुक्त है. एक रिसर्च के मुताबिक ओवेरियन कैंसर भारत में महिलाओं में कैंसर का तीसरा प्रमुख प्रकार है. एक सबसे ख़ास बात यह है की कैंसर का पता लगने के बाद केवल 45% महिलाएं ही अपनी जिंदगी बचा सकी.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार अधिकतर महिलाओं को इसका पता तीसरे या चौथे स्टेज पर चलता है| ओवेरियन कैंसर को अन्धाश्य का कैंसर भी कहा जाता है. आईये जानते है ओवेरियन कैंसर क्या है, इसके लक्षण और कारण क्या है तथा इससे कैसे बचा जा सकता है?

ओवेरियन कैंसर क्या है? (What is Ovarian Cancer in Hindi)   

ओवेरियन कैंसर (ovarian cancer hindi) अंडाशय में शुरू होता है, अंडाशय महिलाओं में पाई जाने वाली प्रजनन ग्रन्थिया होती है|अंडाशय प्रजनन के लिए अन्डो का उत्पादन करता है|अंडे फैलोपियन ट्यूब से गर्भाशय में जाते है, जहां निषेचित अंडा प्रवेश करता है और भ्रूण में विकसित होता है, अंडाशय महिला हार्मोन एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन का मुख्य स्त्रोत है|

बढ़ी उम्र में महिलाओं में ओवेरियन कैंसर का जोखिम बढ़ता जाता है| यह कैंसर महिलाओं में सबसे जल्दी बढ़ने वाला कैंसर है, और इसकी मौत की दर बहुत ज्यादा है| जब अंडाशय में अनावश्यक और असामान्य कोशिकाएं विकसित होने लगती है, तो एक ट्यूमर या गाँठ बनाती है| जिसका समय पर उपचार ना हो तो यह भयंकर कैंसर का रूप ले लेती है और शरीर के अन्य भागों में फ़ैल जाती है|

ओवेरियन कैंसर के चरण (Stages Of Ovarian Cancer in Hindi)

ओवेरियन कैंसर के चरण निम्नलिखित है।

पहला चरण :- कैंसर एक या दोनों अंडाशय तक ही सिमित होता है|

दूसरा चरण :- कैंसर श्रोणी तक फ़ैल जाता है|  

तीसरा चरण :- कैंसर पेट तक फ़ैल चुका होता है, और इस स्टेज में महिलाओं को इस कैंसर का पता चलने लगता है|

चौथा चरण :- कैंसर पेट से बाहर या अन्य अंगों तक फ़ैल चुका होता है और इस स्थिति में इलाज बहुत जटिल होता है|  

ओवेरियन कैंसर के लक्षण (Symptoms Of Ovarian Cancer in Hindi)

  • योनी से रक्तस्राव
  • श्रोनिक क्षेत्र में दर्द या दबाव|
  • पेट में दर्द
  • पीठ में दर्द
  • पेट फूलना
  • जल्दी से पेट भरा हुआ लगना
  • खाने में परेशानी होना
  • कब्ज
  • बार-बार पेशाब करने की इच्छा होना
  • पेट में सुजन होना
  • नियमित रूप से पीरियड्स ना होना
  • ज्यादा थकावट
  • खट्टी डकारें
  • सम्भोग करते समय दर्द होना|
  • गैस और दस्त लगना
  • उल्टी आना
  • जी मचलना
  • बिना किसी कारण के वजन बढना
  • खाना नहीं पच पाना और जलन

ओवेरियन कैंसर के कारण (Reason Of Ovarian Cancer in Hindi)

  • कैंसर का पारिवारिक इतिहास
  • उम्र
  • जिन महिलाओं में कम उम्र में मासिक धर्म शुरू होता है उनमे इस कैंसर का जोखिम बढ़ जाता है|
  • जिनमे मोनोपोज देर से हो उनमे भी इसका जोखिम बढ़ जाता है|
  • अगर किसी महिला ने गर्भधारण नहीं किया है, तो इसका जोखिम बढ़ जाता है|
  • जिन महिलाओं के ब्रेस्ट कैंसर का इलाज हो चूका है उनमे ओवेरियन कैंसर होने का जोखिम अधिक रहता है|
  • हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, शुगर, एनीमिया आदि भी इसके कारण है|

ओवेरियन कैंसर से बचाव (Prevention Of Ovarian Cancer in Hindi)

  • कोई भी लक्षण दिखने पर तुंरत डॉक्टर से सम्पर्क करें|
  • इसे रोकने के लिए महिलाओं को समय-समय पर रक्त-कैल्शियम दर की जांच करवाते रहना चाहिए|
  • गर्भनिरोधक गोलियां भी इसके जोखिम को कम करती है|
  • वजन को कण्ट्रोल में रखें|
  • योग और व्यायाम करें|
  • स्वस्थ और संतुलित आहार खाएं|
  • धुम्रपान, तम्बाकू और शराब का सेवन ना करें|

ओवेरियन कैंसर की जांच (Diagnosis Of Ovarian Cancer in Hindi)

  • खून की जांच
  • कैंसर एंटीजन 125 दर की जांच
  • HCG लेवल की जांच
  • अल्फा-फेटोप्रोटीएन की जांच
  • लैक्टेट डीहाइड्रोजनेज स्तर की जांच
  • एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरान की जांच
  • गुर्दे की जांच

ओवेरियन कैंसर का इलाज (Treatment Of Ovarian Cancer in Hindi)

  • सर्जरी
  • किमोथैरेपी
  • बायोप्सी
  • हार्मोन थैरेपी
  • विकिरण थैरेपी
  • दवाईयां

ओवेरियन कैंसर में इन चीजों से परहेज रखें (What To Avoid During Ovarian Cancer)

  • उच्च वसायुक्त भोजन
  • प्रोटीन से भरपूर भोजन
  • लाल मांस
  • डेरी उत्पाद
  • कैफीन

ओवेरियन कैंसर में इन चीजों का सेवन करें (What To Eat During Ovarian Cancer)

  • अदरक
  • ग्रीन टी
  • अलसी
  • सोयाबीन, सोया मिल्क आदि
  • हरी सब्जियां
  • टमाटर, गाजर आदि
  • साबुत अनाज

आज की इस पोस्ट में आप अच्छे से जान गए होंगे की ओवेरियन कैंसर क्या है, इसके लक्षण और कारण क्या है तथा इसका इलाज (ovarian cancer treatment in hindi) कैसे किया जा सकता है. उम्मीद करता हु आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी. अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और कमेंट बॉक्स में अपने विचार दे|

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*