अग्नाशय कैंसर क्या है? जानिये इसके कारण, लक्षण और बचाव के उपाय | Pancreatic Cancer in Hindi

pancreatic cancer in hindi

अग्नाशय (Pancreatic Cancer In Hindi ) मनुष्य के शरीर का सबसे महत्वपूर्ण भाग होता है| जिसे पाचक ग्रन्थि भी कहते है, हम जो खाते है उसे पचाने का कार्य अग्नाशय करता है|अग्नाशय (Pancreatic) पेट के पीछे 6 इंच की लम्बाई वाला अवयव होता है| इसका आकार मछली जैसा होता है और यह नर्म होता है| इसका सिरा पेट के दाएँ तरफ होता है|

इतना जानने के बाद आप समझ गए होंगे की अग्नाशय हमारे शरीर का कितना महत्वपूर्ण भाग है| इसलिए अग्नाशय का कैंसर बहुत ही गंभीर रोग है, जब अग्नाशय में कैंसर युक्त सेल्स या कोशिकाएं जन्म लेती है तो उसे अग्नाशय का कैंसर कहते है. इस तरह का कैंसर ज्यादातर 60 साल से अधिक उम्र वाले व्यक्तियों में पाया जाता है.

उम्र बढ़ने के साथ-साथ हमारे DNA में बदलाव होने लगते है|इसलिए उम्र के साथ-साथ कैंसर का खतरा भी बढ़ता जाता है, 60 साल से अधिक की उम्र में होने के कारण यह बुजुर्ग लोगों को ज्यादा होता है और इसकी ओसतन उम्र भी 72 साल है|महिलाओं की तुलना में अग्नाशय कैंसर पुरुषों में ज्यादा होता है|आईये जानते है अग्नाशय कैंसर क्या है, इसके लक्षण और कारण क्या है तथा इससे कैसे बचा जा सकता है?

अग्नाशय कैंसर क्या है? (What is Pancreatic Cancer)

अग्नाशय कैंसर (Pancreatic Cancer) आपके अग्नाशय के उतकों में शुरू होता है|आपके अग्नाशय में ऐसे एंजाइम बनते है, जो आपकी पाचन क्रिया को ठीक करते है और इसके अलावा इसमें ऐसे हार्मोन का निर्माण भी होता है| जो आपके शरीर की शर्करा के चयापचय को नियंत्रित करने में मदद करता है.

यह ऐसा कैंसर है की अगर इसका पता शुरूआती स्टेज पर भी लग जाए तो भी इसे रोकना मुश्किल है, क्योंकि यह कैंसर बहुत तेजी से फैलता है| इसका पता शुरूआती स्टेज में लगाना भी मुश्किल होता है| जब इसका पता लगता है तब तक यह तेजी से फ़ैल चुका होता है, कैंसर से होने वाली मौत में अग्नाशय कैंसर सबसे प्रमुख है|

अगर इसका निदान जल्द से जल्द नहीं किया गया तो जान को जोखिम रहता है| क्योंकि एक साल के अंत तक भी इसके जीवित रहने की दर 20% है और 4-5 सालों में यह दर 4% तक आ जाती है|अब आप सोच लीजिये की यह कितनी खतरनाक जानलेवा बीमारी है| वैसे भारत में अग्नाशय कैंसर के मामले बहुत कम है लेकिन समय के साथ-साथ इसका आंकडा भी तेजी से बढ़ रहा है|

अग्नाशय कैंसर के कारण (Reason of Pancreatic Cancer in Hindi)

  • अधिक मात्रा में धुम्रपान|
  • आनुवांशिक कारण|
  • रेड मीट और चर्बी युक्त भोजन|
  • अग्नाशय में जलन|
  • ज्यादा मोटापा|
  • कीटनाशक दवाइयों की फैक्ट्री में काम करने वाले लोगों को इस कैंसर के होने की सम्भावना ज्यादा रहती है|

अग्नाशय कैंसर के लक्षण (Symptoms of Pancreatic Cancer in Hindi)

अग्नाशय कैंसर की जांच (Checking of Pancreatic Cancer in Hindi)

  • परिवार की मेडिकल हिस्ट्री का पता लगाना|
  • शारीरिक परिक्षण जैसे पेट में गाँठ को महसूस करना, सुजन आदि|
  • CT Scan
  • MRI
  • अल्ट्रासाउंड
  • PET Scan
  • बायोप्सी

अग्नाशय कैंसर का इलाज (Treatment of Pancreatic Cancer in Hindi)

डॉक्टर इसके इलाज के लिये रेडियोथैरेपी और किमोथैरेपी करते है, जरूरत पड़ने पर सर्जरी भी की जाती है. इसके लिए आप नियमित रूप से अपना स्वास्थ्य परिक्षण करवाते रहे|

अग्नाशय कैंसर की जटिलताएं (Complications Of Pancreatic Cancer in Hindi)

  • अगर अग्नाशय कैंसर आपके जिगर की पित्त की नली को रोकता है तो पीलिया हो सकता है|
  • बढ़ता ट्यूमर पेट की नसों पर दबाव डालता है. जिससे दर्द तेज हो सकता है|
  • अग्नाशय कैंसर छोटी आंत में बढ़ता है और उस पर दबाव डालता है जिससे भोजन का प्रवाह रुक सकता है और पाचन क्रिया में दिक्कत आ सकती है|
  • जिन लोगों को अग्नाशय का कैंसर होता है उनका वजन भी तेजी से घटता है.

अग्नाशय कैंसर से बचाव के उपाय (Prevention Of Pancreatic Cancer in Hindi)

  • धुम्रपान ना करें|
  • वजन ना बढ़ने दे|
  • पौष्टिक आहार का सेवन करें|
  • फल-फ्रूट ले|
  • स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं|
  • योग और व्यायाम करें|
  • लहसुन, सोयाबीन, एलोवीरा, ग्रीन टी, अंगूर आदि का सेवन करें|
  • नियमित जांच करवाएं|
  • किसी भी लक्षण को नजर अंदाज ना करें|

आज की इस पोस्ट में आप अच्छे से जान गए होंगे की अग्नाशय कैंसर क्या है, इसके लक्षण (pancreatic cancer symptoms in hindi) और कारण क्या है तथा इसकी जटिलताएं कौन-कौनसी है और इससे कैसे बचा जा सकता है. उम्मीद करता हु की आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी. अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और कमेंट बॉक्स में अपने विचार दे|

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*