पेरासिटामोल टेबलेट के उपयोग, फायदे, सावधानियाँ | Benefits & Uses of Paracetamol tablet in Hindi

paracetamol tablet in Hindi

पेरासिटामोल टेबलेट (paracetamol tablet in Hindi) का उपयोग सामान्य और दर्द निवारक बीमारियों के लिए किया जाता है। यह -नॉन स्टेरॉयडल एंटी- इंफ्लेमेटरी ड्रग्स  दवाई के समूह में शामिल है। इस दवाई का मुख्य उपयोग (paracetamol tablet uses) सर्दी, खासी, बुखार, कानदर्द, पेट दर्द,मासिक दर्द, दातो में दर्द, गठिया, कमर दर्द। आदि इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। पेरासिटामोल एक ऐसी दवाई है| जो आप को आसानी से किसी भी मैडिकल स्टोर पर उपलब्ध हो जाती है। इस दवाई का यूज़ आप बिना डॉक्टर की अनुमति से भी ले सकते हो। परन्तु ध्यान रहे की इस दवाई का अधिक मात्रा में सेवन नहीं कर सकते है। पेरासिटामोल टेबलेट 500mg के पैकेट में भी उपलब्ध होती है। पेरासिटामोल टेबलेट से आप के शरीर पर कोई गंभीर दुष्प्रभाव नहीं पड़ते है। यदि कोई महिलाए गर्भवती है या स्तनपान के दौरान भी ये महिलाये इस दवाई का उपयोग कर सकते है। हलाकि कुछ दुर्लभ परिणामो में इसके कुछ  इफ़ेक्ट जैसे त्वचा पर लाल चकते पड़ना, शरीर में खुजली होना, पेट दर्द करना आदि परेशानिया हो सकती है। पेरासिटामोल दवाई का सेवन करना बंद कर दे और तुरंत किसी सलाहकार या डॉक्टर से संपर्क करे।

पेरासिटामोल टेबलेट के उपयोग और कार्य (Paracetamol Tablet Uses  in Hindi)

पेरासिटामोल टेबलेट का यूज़ (paracetamol tablet uses in Hindi) हम सर्दी, जुकाम के दवाई के साथ मिलकर भी यूज़ किया जाता है। यह एक दर्द निवारक गोली होती है| जिसे नीले में आसानी होती है। बड़े लोगो के लिए यह टैबलेट या गोली के रूप में और बच्चो के लिए सिरप के रूप में इसका यूज़ किया जाता है। पेरासिटामोल टेबलेट का उपयोग सर्जरी या कैंसर के कारन होने वाले दर्द के रूप में भी किया जाता है। पेरासिटामोल एक प्रकार की नासिद दवाई है, जो साइक्लोऑक्सीजेनेस नामक एंजाइम को रोकने का काम करती है। यह एंजाइम शरीर में पैदा होने वाले दर्द को बनाता है। पेरासिटामोल टेबलेट इसमें type3 साइक्लोऑक्सीजेनेस (cyclooxygenase) को नियंत्रित करके बुखार को कम करने का कार्य करता है।

इसके आलावा निचे और भी कुछ ऐसी बीमारिया है जिसमे पेरासिटामोल दवाई का यूज़ किया जाता है।

  • सिरदर्द में।
  • पेटदर्द में।
  • कान दर्द में।
  • कमर दर्द में।
  • माशपेशियों के दर्द में।
  • मासिक धर्म के दर्द के इलाज में।
  • माइग्रेन और बुखार के इलाज में।
  • वाइरल बुखार में।
  • त्वचा पर लाल धब्बे होने पर।
  • अल्सर या घावों में।
  • स्वाइन फ्लू के इलाज में।

पेरासिटामोल टेबलेट के दुष्प्रभाव / साइड इफ़ेक्ट (Paracetamol Tablet Side Effect in Hindi)

यदि आप को पेरासिटामोल दवाई से एलर्जी है या आप इस दवाई का अधिक मात्रा में सेवन करते हो तो इसके कुछ दुष्प्रभाव आप के शरीर पर पड़ सकते है। इसलिए पेरासिटामोल दवाई (peracetamol uses in hindi) का उपयोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले। पेरासिटामोल दवाई से होने वाले साइड इफ़ेक्ट निचे सूची बद्ध दी गई है।

  • त्वचा पर लाल चकते पड़ना।
  • स्वाश लेने में परेशानी।
  • नाक बहना।
  • शरीर में खुजली होने पर।
  • उल्टी या मचलाहट होना।
  • शरीर में कमजोरी आना।
  • एलर्जी जैसे परेशानी
  • हाथ पैरो में सूजन।
  • गले में खराश होना
  • पीलिया होना।
  • काला या खुनी मल।
  • मूत्र में अचानक कमी होना।
  • शरीरी के फोड़े होना।

यदि आप को ऊपर बताए गए लक्षणों में से किसी भी प्रकार के लक्षण का आभास होता है, तो उस दौरान तुरंत आप आप किसी नजदीकी डॉक्टर से या सलाहकार व्यक्ति से सलाह अवश्य लेना चाहिए।

पेरासिटामोल टेबलेट की सावधानियाँ (Paracetamol Tablet Precaution in Hindi)

यह बात सही है की किसी भी दवाई का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलह लेना बहुत ही आवश्यक होती है क्योकि यदि आप ऐसा नहीं करते हो तो आप को इसके साइड इफ़ेक्ट हो सकते है जिससे आप को विभिन्न प्रकार की बीमारिया हो सकती है। कई बार ऐसा होता है की हम बिमा किसी डॉक्टर की सलाह से पेरासिटामोल दवाई का सेवन कर लेते है ।  परन्तु  ध्यान रहे की इसकी सावधानियाँ को अवश्य पड़े और इसका सेवन करे। पेरासिटामोल टेबलेट अलग-अलग मात्रा में उपलब्ध होती है। यदि कोई  वयस्क मनुष्य है तो यह इसका ४०० मात्र के डोस ले सकता है परन्तु किसी बच्चे को देना है तो 100mg का डोस दे सकते है। परन्तु ध्यान रहे की एक दिन में  500mgसे ज्यादा का डोस नहीं लेना चाहिए।पहले और दूसरे डोस में लगभग 4-5 घंटे का अंतर होना चाहिए। यदि कोई शराब या किसी भी प्रकार की नशीली पदार्थ का सेवन करता है तो उसे उस समय पेरासिटामोल टेबलेट का यूज़ नहीं करना चाहिए। इसके लिए उनको डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए। यदि कोई महिला गर्भ या स्तनपान के समय पेरासिटामोल दवाई का उपयोक करती है तो यूज़ इसका कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता है। क्योकि यह मेडिकल रिसर्च में सही पाया गया है।फिर भी ऐसी परिस्थिति में  डॉक्टर की सलाह लेना बहुत आवश्यक होता है।

पेरासिटामोल के विभिन्न नाम (Paracetamol alternative names in Hindi)

पेरासिटामोल टेबलेट को विभिन्न नमो से भी जाना जाता है।

  • PCM (पीसीएम ) 500mg
  • Lupicin (ल्युपसिन) 500 mg
  • Acticin (एक्टिसिन) 500mg
  • Macfast (मैकफास्ट ) 500mg
  • Ultragin (अल्ट्राजीन) 500mg
Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*