प्रेगनेंसी के 9 महीने, नवें महीने में रखें यह सावधानी | 9 Month Pregnancy in Hindi

Pregenancy Ke 9 Month In Hindi

हर महिला के लिए माँ बनना एक सुखद अहसास होता है, जब महिला को यह खबर मिलती है कि वो माँ बनने वाली है वो बहुत खुश हो जाती है, और उसी दिन से खुद का ख्याल रखना शुरू कर देती है| सच मे माँ बनना एक बहुत ही खुशनुमा पल है जिसे सिर्फ और सिर्फ माँ ही जान सकती है|

सच में प्रेग्नेंट महिला के लिए हर दिन चुनोती भरा होता है, प्रेग्नेंट महिला को किन-किन दिक्कतों का सामना करना पड़ता है इसके बारे में सिर्फ वो महिला ही जानती है| उन्हें खान-पान से लेकर अपने शरीर तक सबका ख्याल रखना पड़ता है| क्योंकि जितना वो खुद का ख्याल रखेंगे उतना ही उनका बच्चा हैल्दी होगा|

गर्भावस्था के 9 महीने (pregnancy 9th month in hindi) चुनोती भरे होते है| जिनमे छोटी सी गलती भी बच्चे को बड़ा नुकसान पहुंचा सकती है|आज की इस पोस्ट में हम आपको बताएँगे की एक प्रेग्नेंट महिला को 9 महीनों (9 month pregnancy in hindi) में किन-किन चुनोतियों का सामना करना पड़ता है| और नवें महीने में क्या-क्या सावधानियां रखनी जरुरी है|

गर्भावस्था के 9 महीने (Pregenancy Ke 9 Month In Hindi)

पहला महिला

इस महीने में प्रेगनेंसी जांच के बाद महिला को पता चल जाता है की वो माँ बनने वाली है| जैसे ही उन्हें यह बात पता चलती है उन्हें खान-पान से लेकर दिनचर्या में बदलाव करना पड़ता है| महिला को भारी सामान उठाने की मनाही होती है और उन्हें पीरियड आना भी बंद हो जाते है|

दूसरा महिना

इस महीने में महिला के त्वचा का रंग भी बदल जाता है. दुसरे महीने में भ्रूण के शरीर के अंग भी विकसित होने लगते है. इस महीने से महिला को प्रोटीन और कैल्शियम युक्त आहार लेना चाहिए. सबसे ज्यादा एक महिला को अपने खान-पान पर ध्यान देना चाहिए|

तीसरा महिना

इस महीने में भ्रूण के हड्डियों का विकास होना शुरू हो जाता है. बच्चे के कान और बाहार के अंग विकसित होने लगते है. इस महीने में प्रेग्नेंट महिला को 15 से 20 दिन धुप में रहना चाहिए क्योंकि धुप से विटामीन D मिलता है जो हड्डियों की मजबूती में सहायक है|

चौथा महिना

इस महीने में भ्रूण के हार्मोन विकसित होने लगते है. इस समय बच्चे का वजन भी लगभग 85 ग्राम होता है. अगर आप व्यायाम या योग करती है तो जिम ट्रेनर के निर्देश में ही करें| याद रखें आपकी एक छोटी सी गलती भी आपके और आपके बच्चे के लिए नुकसानदायक हो सकती है|

पांचवा महिना

इस महीने में भ्रूण की लम्बाई बढ़ने लगती है. इस दौरान बच्चे की लम्बाई 25 सेंटीमीटर होती है. इस महीने में बच्चे के हाथ, पैर और उँगलियों का विकास होता है. ऐसे में महिला को खुद का ख्याल रखना चाहिए|

छठा महिना

यह महिना प्रीमैच्योर डिलीवरी का होता है. इस समय बच्चे की आँखों का विकास होता है और ऐसे में इस महीने महिला को खुद का बहुत ख्याल रखना होता है|

सांतवा महिना

इस महीने में प्रेग्नेंट महिला के नींद लेने का समय प्रभावित हो सकता है| इस महीने में आपका होने वाला बच्चा आपकी सांस लेने की गति और पाचन तन्त्र को महसूस कर सकता है. कई बार कुछ बच्चे इस महीने में ही पैदा हो जाते है और ऐसे में उन्हें विशेष देखभाल की जरूरत होती है|

आँठवा महिना

आंठ्व और नवां महिना ऐसा होता है इस दौरान कभी भी आपका बच्चा इस दुनिया में प्रवेश ले सकता है| लेकिन जितना समय आपका बच्चा आपके गर्भ में बिताएगा यह उसके हेल्थ के लिए अच्छा है क्योंकि बच्चे का आने का सही समय नवां महिना ही होता है|

इस महीने में बच्चे का पूरा विकास हो जाता है. इस महीने में आप ज्यादा मूव भी नहीं कर सकती है इसलिए आपको एक जगह बैठे रहना होता है. हालाँकि आप एक जगह बैठे-बैठे बोर हो जाती है लेकिन यह आपके लिए बेहद जरुरी है|

नवां और अंतिम महिना

इस महीने में शायद डॉक्टर आपको प्रसव का दिन बता देते है| इस महीने में कभी भी आपका बच्चा इस दुनिया में आ सकता है, यह ख़ुशी के साथ-साथ खतरों का महिना भी है| बच्चे का वजन भी इस दौरान ज्यादा होता है. इस महीने में हर रोज आप डॉक्टर से सम्पर्क करते रहे. इस महीने में आप ज्यादा से ज्यादा आराम कीजिये| इस महीने में प्रेग्नेंट महिला की देखभाल बहुत जरुरी होती है| इसलिए हर वक्त उनके पास कोई ना कोई रहे, क्योंकि प्रसव पीड़ा कभी भी हो सकती है|

नवें महीने में हो सकती है आपको यह परेशानियां

नौवे महीने में यह लक्षण होने पर तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें

  • पेट में तेज दर्द होने पर|
  • योनी से सफ़ेद द्रव्य निकलने पर|  (और पढ़े:- वी वाश क्या होता है। और इसका इस्तेमाल क्यों किया जाता है)
  • डॉक्टर द्वारा दी गई तारीख पर उनके पास जरुर जाए|
  • थोड़ा सा भी शरीर में अलग सा लगने पर तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें|
  • बुखार या बिपि बढ़ने-घटने पर तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें|
  • स्तनों में ज्यादा दर्द हो तो चिकित्सक से सम्पर्क करें|
  • किसी भी तरह की परेशानी महसूस हो तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें|

नवें महीने में गर्भवती महिला में हो सकते है बदलाव  

  • रात के समय में अजीब से सपने आते है|
  • अचानक से वजन भी बढ़ सकता है|
  • इस महीने में आप थोड़ा असहज महसूस करेगी|
  • आपके पेट में अचानक से दर्द उठेगा जो की कभी ज्यादा तो कभी कम भी हो सकता है|
  • अचानक से आपमें अधिक ऊर्जा आ जाती है और आप कुछ नया करने का विचार बनाने लगती है|
  • इस महीने आप खुद का बेहद ख्याल रखना शुरू कर देती है|
Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*