प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण, कारण और इलाज | Prostate Cancer in Hindi

prostate cancer in Hindi

हर कैंसर की तरह प्रोस्टेट कैंसर का पता भी शुरुआत में चल जाए तो इसका इलाज संभव है, क्योंकि बाद में तो सिर्फ दुआ ही काम आने वाली है| कैंसर के परिणाम ही इतने घातक है की इसे जानलेवा बीमारी कहना ही सही है, अगर किसी को कहते है की अमुख बंदे को कैंसर हुआ है तो सीधा एक ही बात मुहं से निकलती है की अब वह बच नहीं पायेगा|

20 से उपर तरह के कैंसर होते है और सब कैंसर सिर्फ शुरूआती स्टेज में इलाज के लायक है, कुछ कैंसर महिलाओं में होते है तो कुछ पुरुषों में और कुछ कैंसर ऐसे होते है जो दोनों में ही हो सकते है, ऐसा ही एक कैंसर है प्रोस्टेट कैंसर जो पुरुषों में होता है| यह कैंसर 50 साल की उम्र के बाद पुरुषों में होता है|

प्रोस्टेट एक ग्रन्थि होती है जो पुरुषों में पाई जाती है और यह उनके प्रजनन प्रणाली का हिस्सा होती है| यह मूत्राशय के निचे और मलाशय के सामने स्थित होती है| आईये जानते है प्रोस्टेट कैंसर क्या है, इसके लक्षण और कारण क्या है तथा इसका इलाज कैसे किया जा सकता है?

प्रोस्टेट कैंसर क्या है? (What is Prostate Cancer in Hindi)  

प्रोस्टेट ग्रन्थि को पौरुष ग्रन्थि भी कहते है, पौरुष ग्रन्थि एक छोटी अखरोट के आकार की ग्रन्थि होती है जो वीर्य का उत्पादन करती है जिससे शुक्राणु ट्रांसपोर्ट होते है| यह कैंसर पुरुषों में होने वाला सबसे आम कैंसर है, यह कैंसर धीरे-धीरे बढ़ता है और बाद में विकराल रूप ले लेता है|

शुरुआत में यह कैंसर सिर्फ प्रोस्टेट ग्रन्थि तक ही सिमित होता है, जहां यह गंभीर नुकसान नहीं पहुंचा सकता है. अगर इस समय इसका इलाज कर दिया जाए तो इससे बचाव संभव है क्योंकि बाद में यह बहुत आक्रामक हो जाता है.

प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण (Symptoms Of Prostate Cancer in Hindi)

  • पेशाब करने के लिए बार-बार मन करना|
  • पेशाब करने में कठिनाई होना|
  • पेशाब शुरू करने और बंद करने में तकलीफ होना|
  • पेशाब करते समय दर्द होना|
  • स्खलन के दौरान दर्द होना|
  • हड्डियों में दर्द होना|
  • रात में ज्यादा पेशाब आना|
  • पेशाब या वीर्य में खून आना|
  • वजन कम होना|
  • थकान और बुखार आना|

प्रोस्टेट कैंसर के कारण (Reason Of Prostate Cancer in Hindi)

  • बुढ़ापा, क्योंकि उम्र के साथ इसके जोखिम बढ़ते है|
  • कैंसर का पारिवारिक इतिहास
  • मोटापा
  • हानिकारक रसायनों के सम्पर्क में आना
  • प्रोस्टेट सेल में परिवर्तन

प्रोस्टेट कैंसर से बचाव (Prevention Of Prostate Cancer in Hindi)

  • धुम्रपान ना करें
  • स्वस्थ आहार खाएं
  • वजन को कण्ट्रोल में रखें
  • स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं
  • योग और व्यायाम करें
  • लाल मासं का सेवन ना करें

प्रोस्टेट कैंसर की जांच (Diagnosis Of Prostate Cancer in Hindi)

  • डिजिटल रेक्टल टेस्ट
  • प्रोस्टेट स्पेसिफिक एंटीजन
  • प्रोस्टेट बायोप्सी
  • सिटी स्कैन
  • MRI
  • खून टेस्ट
  • यूरीन टेस्ट

प्रोस्टेट कैंसर का इलाज (Treatment Of Prostate Cancer in Hindi)

  • सक्रियता से निगरानी रखना
  • सर्जरी
  • विकिरण थैरेपी (अंदरूनी और बाहरी)
  • किमोथैरेपी
  • हार्मोन थैरेपी
  • क्रायोथैरेपी
  • जैविक चिकित्सा
  • हाई-इन्टेसिटी फोक्स्ड अल्ट्रासाउंड

प्रोस्टेट कैंसर के चरण (Stage Of Prostate Cancer in Hindi)

पहला चरण :- इसमें कैंसर बहुत छोटा होता है जो पौरुष ग्रन्थि तक ही सिमित होता है|

दूसरा चरण :- कैंसर प्रोस्टेट ग्रन्थि में ही होता है लेकिन आकार बढ़ा होता है|

तीसरा चरण :- कैंसर प्रोस्टेट ग्रन्थि के बाहर फ़ैल चुका होता है और वीर्य को ले जाने वाले ट्यूब्स तक फैला हो सकता है|

चौथा चरण :- कैंसर शरीर के किसी भी अंग तक फ़ैल सकता है|

आज की इस पोस्ट में आप अच्छे से जान गए होंगे की प्रोस्टेट कैंसर क्या है, इसके लक्षण और कारण क्या है तथा इसका इलाज कैसे किया जा सकता है, उम्मीद करता हु आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी. अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और कमेंट बॉक्स में अपने विचार दे|

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*