रसायन वटी | Rasayan vati in Hindi

Rasayan Vati in Hindi

रसायन वटी (Rasayan vati in Hindi) एक आयुर्वेदिक औषधि है। जिसका उपयोग पुरुषो के स्वास्थ के लिए किया जाता है। यह पुरुषो की शक्ति और ऊर्जा दोनों को बढ़ाता है। इससे मनुष्य की माशपेशियों  में होने वाली कमजोरी को दूर करता है और हड्डियों को मजबूत करने का काम करता है। इसके सेवन करने से अन्य बीमारिया जैसे:- शरीर में थकान होना, जोड़ो में दर्द, कमजोरी होना, चिड़चिड़ापन, स्वाश फूलना  आदि को ठीक करने में मदत करता है। रसायन वटी को विभिन्न नाम जैसे:- दिव्य शिलाजीत रसायन वटी, राजवैध रसायन वटी के नाम से भी जानते है। रसायन वटी मनुष्य में स्वप्नदोष, शीघ्र पतन,नपुंसकता आदि के इलाज में भी फायदेमंद रहता है। रसायन वटी में शुद्ध द्रव शिलाजीत की मात्रा का उपयोग किया जाता है। इसमें मौजूद त्रिफला और भूमि आमला का योग है जो शुक्रशोधक है। जो मनुष्य के लिए एक टॉनिक का काम करता है। त्रिफला और भूमि आमला  शरीर को शुद्ध करने के लिए एक आयुर्वेदिक  औषधि है। इसमें उपस्थित अश्वगंधा  होने के कारन यह वीर्य की मात्रा को बढ़ाने के साथ  प्रजनन की क्षमता को भी बढ़ाता है।

शिलाजीत रसायन वटी के फायदे  (Benefits of Shilajit Rasayan Vati in Hindi)

शिलाजीत रसायन वटी (Shilajit Rasayan vati in Hindi) औषधि का उपयोग मनुष्य में होने वाली कमजोरी को दूर करने का काम करती है। यह एक आयुर्वेदिक औषधि होती है| जो मनुष्य के शीघ्रपतन , स्वप्नदोष, नपुसंकता, शरीर में थकान,आदि बीमारियों को दूर करने का काम करती है। यह पुरुषो में मर्दाना ताकद को बढ़ाता है और नई ऊर्जा का संचार करती है। निचे और भी कुछ बीमारियों के बारे में बताया गया है। जो रसायन वटी के खाने से कम किए जा सकते है।

मर्दाना कमजोरी

शिलाजीत रसायन वटी पुराने समय से ही मनुष्य की कमजोरी को दूर करने के लिए उपयोग में लाई जाती है। यह मनुष्य के मासपेशियो को मजबूत करने का काम करती है और इसमें अश्वगंधा की मात्रा को मिलाकर मर्दाना कमजोरी को दूर करके पुरुषो में सेक्स शक्ति को बढाती है।

स्वप्नदोष

शिलाजीत रसायन वटी स्वप्नदोष के लिए भी लाभदायक होती है। स्वप्नदोष के कारन उत्पन्न होने वाली दुर्बलता को दूर कर नष्ट हुई ऊर्जा को पुनः प्राप्त करने में सहायक होती है। इस रोग में इसका प्रयोग सीरीज बीज ,मुलेठी चूर्ण, आमलिक रसायन और शतावरी के अधिक हितकारी होता है। इन सभी जड़ी-बूटियों को बराबर मात्रा में सुबह -शाम आधा- आधा चम्मच ले सकते है। इनके आलावा रसायन वटी और चन्द्रप्रभा वटी का भी उपयोग कर सकते है।

शुक्राणुओं की कमी होना

रसायन वटी में मौजूद शुद्ध शिलाजीत और अश्वगंधा की मात्रा होने के कारन यह मनुष्य में शुक्राणु की संख्या बढ़ाने में सहायता करता है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन

पुरुषो में जननांग के कमी के कारन इरेक्टाइल डिसफंक्शन होता है। यह सब शराब पीना, शरीर में थकान, चिड़चिड़ापन आदि के कारन होती है। इन सभी परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए रसायन वटी लाभदायक होती है। रसायन वटी का उपयोग कोंच पाक के साथ करने से बहुत फायदा होता है।

इम्युनिटी बढ़ाने के लिए

रसायन वटी शरीर के इम्युनिटी सिस्टम को बढ़ाने में लाभदायक होता है।क्योकि इसमें मुख्य घटक शिलाजीत, अश्वगंधा और भूमि आमला का रोग प्रतिरोधक बुस्टर है।

रसायन वटी के उपयोग (Rasayan Vati Uses in Hindi)

वैसे तो रसायन वटी का उपयोग मनष्य में होने वाली कमजोरी को दूर करने और मासपेशियो को मजबूत बनाने के लिए किया जाता है। और भी कुछ ऐसे निम्न लिखित उपयोग है जिसमे रसायन वटी का उपयोग किया जाता है।

  • शरीर में होने वाली थकान और जोड़ो के दर्द को कम करने के लिए।
  • शीघ्रपतन और स्वप्नदोष की समस्या को दूर करने के लिए।
  • भूख न लगना, खून की कमी या समय से पहले बुढ़ापा आने से बचने के लिए।
  • मानसिक समस्या को दूर करने में।
  • मनुष्य में शुक्राणु की कमी होने पर।

रसायन वटी में उपयोग होने वाले घटक (Ingredients of Rasayan Vati in Hindi)

रसायन वटी के घटक निम्नलिखित है।

  • अश्वगंधा 50 मिलीग्राम
  • लोह भस्म 50 मिलीग्राम
  • बंग भस्म १०  मिलीग्राम
  • शिलाजीत 50 मिलीग्राम
  • गोखरू २५ मिलीग्राम
  • कोंच बीज ९० मिलीग्राम
  • मूसली २५  मिलीग्राम
  • अभ्रक भस्म 10 मिलीग्राम
  • स्वर्ण मक्षिक भस्म १० मिलीग्राम
  • यशद भस्म ४० मिलीग्राम
  • मुक्ता पिसती १० मिलीग्राम
  • दालचीनी २० मिलीग्राम
  • केसर १० मिलीग्राम
  • जायफल २०  मिलीग्राम
  • जावित्री २०  मिलीग्राम
  • त्रिफला चूर्ण 60  मिलीग्राम
  • भूमि आमला 10  मिलीग्राम

रसायन वटी की औषधीय मात्रा (Dosage of Rasayan Vati in Hindi)

रसायन वटी की गोली को आप दिन में दो बार सुबह – शाम १-१ गोली का सेवन दूध या पानी के साथ कर सकते हो। परन्तु इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह अवश्य ले।

रसायन वटी के साइड इफ़ेक्ट और सावधानियां (Rasayan Vati Side Effect and Precautions in Hindi)

रसायन वटी के आमतौर पर कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता है। इसको बच्चो से दूर रखना चाहिए। इसका सेवन करते समय किसी भी नशीली पदार्थो का सेवन नहीं करना चाहिए। इसका अधिक  मात्रा में सेवन करने से इसके कुछ साइड इफ़ेक्ट होते है। परन्तु यह आप को महसूस नहीं होते है। इसलिए  इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*