वृषण कैंसर के लक्षण, कारण और इलाज | Testicular Cancer in Hindi  

testicular cancer in hindi

वृषण यानी अंडकोष मानव शरीर के अंदरूनी भागों में से एक महत्वपूर्ण भाग है| इस बात में कोई दोराय नहीं है, की हम अपने अंदरूनी यानी गुप्त अंगो को अपनी आँखों से सीधे नहीं देख सकते है| इसलिए इनकी निगरानी और देखभाल रखने के लिए दूसरी तकनीकों का सहारा लेते है| हालाँकि इनके भी कुछ लक्षण होते है जिनसे हम गुप्त अंगो पर आई खराबी को पहचान सकते है|

वृषण यानी अंडकोष का कैंसर पुरुषों के लिए एक बहुत ही घातक और जानलेवा बीमारी है,  हर कैंसर की तरह इसका इलाज भी शुरूआती स्टेज पर संभव है बाद में यह स्थिति बहुत खतरनाक हो सकती है और यहां तक की जानलेवा भी हो सकती है, अन्य कैंसर की तुलना में वृषण कैंसर थोड़ा जटिल और दुर्लभ है|

भारत में एक लाख में से एक पुरुष में वृषण कैंसर का इलाज होता है, इस बात से आप पता लगा सकते है की इसमें जीवित रहने की दर कितनी कम है| आइये जानते है वृषण कैंसर क्या है, इसके लक्षण और कारण क्या है तथा इससे कैसे बचा जा सकता है?

वृषण कैंसर क्या है? (What is Testicular Cancer in Hindi)

वृषण कैंसर अंडकोष में होता है जो लिंग के निचे एक थैली में स्थित होते है, अंडकोष पुरुष सेक्स हार्मोन और शुक्राणु उत्पन्न करते है| अंडकोष में होने वाली गाँठ या ट्यूमर को ही वृषण कैंसर कहा जाता है| हालाँकि इसका इलाज संभव है और अगर वृषण कैंसर अंडकोष से बाहर फ़ैल जाए तो भी इसके प्रकार और स्थिति के आधार पर इसका इलाज किया जा सकता है|

वृषण कैंसर के प्रकार (Types Of Testicular Cancer in Hindi) 

वृषण कैंसर के प्रकार निम्नलिखित है।

जर्म सेल ट्यूमर :- इसमें 90% से अधिक मामलों में वृषण कैंसर अंडकोष में मौजूद जर्म कोशिकाओं में विकसित होते है. यह कोशिकाएं शुक्राणु बनाती है.

स्ट्रोमल ट्यूमर :- इस कैंसर में ट्यूमर अंडकोष के सहायक और हार्मोन उतकों में भी विकसित होते है.

सेकेंडरी वृषण कैंसर :- ऐसे कैंसर जो किसी दुसरे अंगो में शुरू होकर विर्शन में फैलते है उन्हें सेकेंडरी वृषण कैंसर कहते है.

वृषण कैंसर के चरण (Stages Of Testicular Cancer in Hindi)

पहला चरण :- इसमें कैंसर अंडकोष तक ही सिमित होता है.

दूसरा चरण :- इसमें कैंसर पेट के लिफ्ट नोड्स में फ़ैल चूका होता है.

तीसरा चरण :- इसमें कैंसर शरीर के अन्य भागों में फ़ैल जाता है. इसमें लीवर, हड्डी, फेफड़े तक प्रभावित हो सकते है.

वृषण कैंसर के लक्षण (Symptoms Of Testicular Cancer in Hindi)

  • अंडकोष में गाँठ
  • किसी एक अंडकोष में वृद्दि|
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द|
  • पेट और जांघ के बीच में हल्का दर्द|
  • अंडकोष की थैली में दर्द|
  • अंडकोष की थैली में द्रव का अचानक से संग्रह होना|
  • स्तनों में वृद्दि|
  • पीठ में दर्द|
  • सेक्स के दौरान दर्द होना|  (अधिक जानकारी :-स्वप्नदोष क्या है, जानिये इसके नुकसान, कारण और इलाज)
  • अंडकोष की थैली में भारीपन लगना|
  • निपल्स नर्म हो जाना|
  • अंडकोष के आकार में परिवर्तन|
  • अंडकोष में सुजन|
  • नसों में खून का थक्का जमना|
  • पैरों में सुजन|
  • सांस लेने में तकलीफ होना|
  • इन्फेक्शन|

वृषण कैंसर के कारण (Reason Of Testicular Cancer in Hindi)

  • कैंसर का पारिवारिक इतिहास
  • वृषण में मौजूद स्वस्थ कोशिकाओं में बदलाव होने पर
  • धुम्रपान
  • तम्बाकू और शराब के सेवन से

वृषण कैंसर से बचाव (Prevention Of Testicular Cancer in Hindi)

  • नियमित वृषण की जांच करवाएं
  • अंडकोष में किसी भी तरह का बदलाव दिखने पर तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें
  • स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं
  • धुम्रपान, तम्बाकू और शराब से दुरी बनाये
  • स्वस्थ और संतुलित आहार खाएं

वृषण कैंसर की जांच (Diagnosis Of Testicular Cancer in Hindi)

  • अल्ट्रासाउंड
  • शारीरिक परिक्षण और चिकित्सा इतिहास की जांच
  • सीरम ट्यूमर मार्कर टेस्ट
  • बायोप्सी
  • सिटी स्कैन
  • एक्स-रे
  • पेशाब की जांच

वृषण कैंसर का इलाज (Treatment Of Testicular Cancer in Hindi)

  • सर्जरी
  • विकिरण थैरेपी
  • किमोथैरेपी

अगर वृषण कैंसर ज्यादा बढ़ जाता है तो ज्यादा मात्रा में किमोथैरेपी की जाती है. ताकि कैंसर कोशिकाओं को नष्ट किया जा सके और उसके बाद स्टेम सेल ट्रांसप्लांट किया जा सके.

वृषण कैंसर के जोखिम (Risk And Complications Of Testicular Cancer in Hindi)

हालाँकि वृषण कैंसर का इलाज संभव है लेकिन अगर यह शरीर के अन्य भागों में फ़ैल गया तो नुकसानदायक हो सकता है. इससे आपकी सेक्स क्षमता प्रभावित हो सकती है. अगर आपके एक या दोनों अंडकोष हटा दिए गए तो आपकी प्रजनन क्षमता पर असर पड़ सकता है. इसलिए पहले अपने डॉक्टर से अपनी प्रजनन क्षमता के बचाव बारे में बात कर ले, अन्यथा बाद में समस्या हो सकती है.

आज की इस पोस्ट में आप अच्छे से जान गए होंगे की वृषण कैंसर क्या है, इसके लक्षण और कारण क्या है तथा इसका इलाज कैसे किया जा सकता है, उम्मीद करता हु आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी| अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और कमेंट बॉक्स में अपने विचार दे|

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*