थायराइड कैंसर क्या है? जानिये इसके कारण, लक्षण और उपाय | Thyroid Cancer in Hindi

thyroid cancer in hindi

थायराइड (Thyroid Cancer in Hindi) शरीर का एक प्रमुख अंग होता है, जो तितली के आकार का होता है तथा यह गले में स्थित होता है| इसमें से थायराइड हार्मोन का स्राव होता है जो हमारे मेटाबालिज्म की दर को संतुलित करता है| थायराइड की कोशिकाओं में कैंसर का निर्माण होता है| थायराइड की बीमारी महिलाओं में अधिक होती है लेकिन पुरुष भी इसमें पीछे नहीं है|

थायराइड कैंसर थायराइड से बिलकुल अलग है| थायराइड कैंसर में शुरुआत गाँठ से होती है, पहले यह गाँठ एक निश्चित हिस्से में होती है और बाद में धीरे-धीरे शरीर के अन्य हिस्सों में फैलती जाती है| आज इस इस पोस्ट में हम आपको बताएँगे की थायराइड कैंसर क्या है, इसके लक्षण और कारण क्या है तथा इससे कैसे बचा जा सकता है?

थायराइड कैंसर क्या है? (What is Thyroid Cancer)

थायराइड कैंसर थायराइड की कोशिकाओं में होता है, थायराइड एक विशेष तरह का हार्मोन स्त्रावित करता है| जो आपके दिल की दर, रक्तचाप और शरीर के तापमान को संतुलित करता है, और नियंत्रित करता है दुनिया के कई विकसित देशों में इसके मामले कम देखने को मिलते है|

शोध और डॉक्टरों के अनुसार नई-नई तकनीकों की वजह से थायराइड कैंसर का इलाज संभव है| थायराइड कैंसर में गले में पहले एक निश्चित जगह पर गाँठ होती है,और बाद में यह धीरे-धीरे सांस नली और आहार नली को भी अपना शिकार बना लेती है| थायराइड कैंसर का इलाज बाकी कैंसर के मुकाबले जटिल नहीं है|

थायराइड कैंसर के कारण (Reason of Thyroid Cancer in Hindi)

थायराइड कैंसर के कारन निम्नलिखित है।

  • थायराइड कोशिकाओं के DNA में परिवर्तन|
  • उम्र, 30 साल से अधिक उम्र के लोगों में यह कैंसर होने संभावना है, युवाओं और बच्चों में इसके होने की संभावना कम है|
  • महिलाओं में पुरुषों की तुलना में थायराइड कैंसर अधिक होता है|
  • पारिवारिक इतिहास|
  • विकिरण चिकित्सा के सम्पर्क में आने से|
  • धुम्रपान

थायराइड कैंसर के लक्षण (Symptoms of Thyroid Cancer in Hindi)

थायराइड कैंसर के लक्षण निम्नलिखित है।

  • गर्दन में गाँठ बनना और कभी-कभी इसका तेजी से फैलना|
  • गर्दन में सुजन
  • सांस लेने में कठिनाई होना|
  • बोलने में तकलीफ होना|
  • गर्दन के सामने के हिस्से में दर्द होना|
  • कान वाले हिस्से में दर्द का पहुँच जाना|
  • गला बैठना
  • आवाज में परिवर्तन होना|
  • निगलने में कठिनाई होना|
  • ठंड की वजह से ना होने वाली खांसी|
  • खांसने के दौरान खून निकलना|

जरुरी नहीं की हर लक्षण थायराइड कैंसर की और संकेत करता है, यह थायराइड समस्या को भी इंगित कर सकता है| इनमे से कोई भी लक्षण दिखे तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें,अगर आपने इन्हें नजरअंदाज किया तो इससे थायराइड कैंसर होने की संभावना बढ़ सकती है|

थायराइड कैंसर की जांच (Checking of Thyroid Cancer in Hindi)

  • थायराइड फंक्शन जांच|
  • थायरोग्लोबिन जांच
  • थायराइड का अल्ट्रासाउंड
  • थायराइड का स्कैन
  • थायराइड बायोप्सी
  • खून में कैल्सियम के स्तर की जांच
  • खून में फास्फोरस के स्तर की जांच
  • खून में कैल्सीटोनिन के स्तर की जांच
  • लैरिंगोस्कोपी जांच

थायराइड कैंसर का इलाज (Treatment of Thyroid Cancer in Hindi)

थायराइड कैंसर के इलाज में आपके शरीर में थायराइड कैंसर की कोशिकाओं को खत्म करना होता है. यह आपकी उम्र, कैंसर का प्रकार, कैंसर का स्तर आदि को ध्यान में रखकर किया जाता है. कई मामलों में सर्जरी की जाती है और प्रभावित हिस्से को निकाल दिया जाता है. कई बार गाँठ को निकाल या हटा दिया जाता है.

सर्जरी के बाद आपको दवाइयां दी जाती, जिन्हें जीवन भर लेना होता है जिससे दुबारा इसके होने की ससंभावना ना रहें. यह दवाइयां जरुरी हारमोन की जगह लेती है जो सामान्यत: थायराइड ग्रन्थि द्वारा बनाए जाते है और आपको हाइपोथायराइड होने से रोकती है.

थायराइड कैंसर की जटिलताएं (Complications of Thyroid Cancer in Hindi)

इलाज के बाद भी थायराइड कैंसर होने की संभावना रहती है. भले ही आपका थायराइड निकाल दिया गया हो लेकिन इलाज के पांच साल तक इसके होने की संभावना दोबारा रहती है कई बार इसके बाद भी हो सकता है. ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि कैंसर कोशिकाओं को हटाने से पहले ही वे थायराइड से बाहर फ़ैल गई हो. थायराइड कैंसर निम्न जगहों पर दुबारा हो सकता है :-

  • गर्दन के लिम्फ नोड्स में
  • थायराइड उत्क के छोटे टुकड़े जो सर्जरी में निकाले नहीं गए हो.
  • शरीर के अन्य हिस्सों में.

अगर वापिस थायराइड हो जाता है तो इसका इलाज भी संभव है. इसमें डॉक्टर वापिस होने के लक्षणों की जांच करके कारणों का पता लगाकर इलाज करता है.

थायराइड कैंसर से बचाव के उपाय (Prevention of Thyroid Cancer in Hindi)

थायराइड कैंसर से बचाव के उपाय निम्नलिखित है।

  • आयोडीन का प्रयोग आहार में करना चाहिए|
  • योग और व्यायाम करें|
  • स्वस्थ जीवनशैली को अपनाएं|
  • सोयाबीन और सोया से बनी चीजें जैसे दूध,अंडा, अखरोट आदि का सेवन करें|
  • पत्ता गोबी, फुल गोबी, शलजम, पास्ता, चावल आदि का सेवन ना करें|
  • खट्टा दही, निम्बू, अचार आदि का सेवन ना करें|
  • विकिरण स्त्रोतों से दूर रहें|
  • स्वास्थ्य की सालाना जांच कराएँ|
  • थायराइड के लक्षणों को नजर अंदाज ना करें|
  • धुम्रपान ना करें|
  • शराब से दुरी बनाये रखें|
  • वजन ना बढने दे|
  • रेड मीट का प्रयोग ना करें|
  • कैफीन का सेवन ना करें जैसे कॉफ़ी|
  • जंक फ़ूड से दुरी बनाये रखें|

आज की इस पोस्ट में आप अच्छे से जान गए होंगे की थायराइड कैंसर क्या है, इसके लक्षण और कारंक्य है तथा इससे कैसे बचा जा सकता है. उम्मीद करता हु की आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी. अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और कमेंट बॉक्स में अपने विचार दे|

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*