थायराइड क्या है, जानिये इसके लक्षण, कारण और इलाज | Thyroid Symptoms, Causes, Treatment in Hindi

Thyroid in Hindi

थायराइड (thyroid in hindi) एक गले की बीमारी है| आजकल कई लोग इस बीमारी से पीड़ित है, इस बीमारी में वजन भी बढ़ने लगता है और हार्मोंस भी असंतुलित होने लगते है| एक शोध में यह पाया गया है की पुरुषों की तुलना में महिलाओं में थायराइड ज्यादा होता है| महिलाओं में पुरुषों की तुलना में 10 गुणा थायराइड होने के चांस रहते है|

थायराइड गले में पाई जाने वाली एक ग्रन्थि है जिसके बढ़ जाने पर यह समस्या होती है. महिलाओं में यह ज्यादा होता है ई लेकिन उन्हें इसके लक्षणों (thyroid ke lakshan in hindi) के बारे में पता नहीं होता है. आज की इस पोस्ट में हम आपको बताएँगे की थायराइड ग्रन्थि क्या है, थायराइड के लक्षण (Thyroid Symptoms in Hindi), कारण और इलाज क्या है?

थायराइड ग्रन्थि क्या है? (Thyroid in Hindi)

थायराइड ग्रन्थि (thyroid gland) शरीर के महत्वपूर्ण हिस्सों में से एक है| शरीर के दुसरे हिस्से सही से काम करे इसकी जिम्मेदारी थायराइड ग्रन्थि की होती है| इसलिए थायराइड ग्रन्थि थायराइड आयोडीन बनाती है और उन्हें दुसरे हिस्सों में पहुंचाती है. लेकिन जब यह ग्रन्थि जरूरत से ज्यादा या कम थायराइड आयोडीन बनाने लगती है तब थायराइड में खराबी आ जाती है, और हमें इसका इलाज कराना पड़ता है|

थायराइड के प्रकार (Types of Thyroid)

अमूमन थायराइड दो तरह का होता है पहला हाइपोथायरोइडिस्म जिसमे व्यक्ति के अंदर थायरोक्सिन हार्मोन की कमी होने लगती है, और दूसरा हाइपरथायरोइडिस्म जिसमे व्यक्ति के अंदर थायरोक्सिन हार्मोन तेजी से बढ़ने लगते है|

थायरोक्सिन होने के कारण (Thyroid Causes in Hindi)

  • शरीर में आयोडीन की मात्रा कम होने पर थायराइड की समस्या हो जाती है|
  • बाहर होने वाले प्रदूषण के कारण भी थायराइड की समस्या हो सकती है| क्योंकि प्रदूषण से बाहर की हवा और विषैले जीवाणु थायराइड ग्रन्थि को नुकसान पहुंचा सकते है, और जिसकी वजह से थायराइड की समस्या हो जाती है|
  • दवाइयों के अधिक सेवन से या उनके साइड इफ़ेक्ट से भी थायराइड हो सकता है|
  • अगर आपके परिवार में किसी को थायराइड है तो आपको भी थायराइड होने के चांस रहते है|
  • अंडाशय या वृषण में फोड़े होने से भी थायराइड हो सकता है|

थायराइड होने के लक्षण (Thyroid Symptoms in Hindi)

वजन बढना

थायराइड होने का सबसे बड़ा लक्षण (thyroid ke lakshan in hindi) यह है की इसमें तेजी से वजन बढ़ने लगता है| इसका कारण यह है की जब भी शरीर में थायराइड होता है, तो मेटाबालिज्म की दर धीमी पड़ जाती है और शरीर में अधिक फैट जमा होने लग जाता है| जिस वजह से तेजी से बढ़ने लगता है|

सेक्स से रूचि कम होना

थायराइड होने पर महिलाओं में सेक्स की रूचि बिलकुल ही कम हो जाती है, बात इतनी बढ़ जाती है की उन्हें सेक्स से घृणा भी होने लगती है, क्योंकि आप भी जानते है की थायराइड सबसे ज्यादा महिलाओं में होता है|

थकान महसूस होना

थोड़ा सा भी हल्का काम करने पर थकान महसूस होने लगती है| ऐसे में आपको समझ जाना चाहिए की आपको थायराइड हो सकता है|

आँखों और नाख़ून में असर

जब थायराइड होता है तो नाख़ून शुष्क और रूखे होने लगते है और उनमे सफ़ेद लाइन भी पड़ने लगती है और यह जल्दी टूटने लगते है| इसके अलावा महिलाओं की आँखों में भी दर्द, खुजली, सुजन, जलन, रूखापन आने लगता है|

पीरियड्स में बदलाव

यूँ महिलाओं में मासिक धर्म का साइकल 28 दिन का होता है लेकिन थायराइड होने पर यह साइकल 40 दिन तक चला जाता है| ऐसा भी हो सकता है की आपके पीरियड्स समय से पहले जल्दी आने लगे, दोनों ही स्थिति में आपको थायराइड हो सकता है|

अन्य लक्षण (Thyroid Symptoms in Hindi)

इन सभी लक्षणों (Thyroid Symptoms in Hindi) के अलावा ज्यादा ठंड महसूस होना, सुखी त्वचा, चेहरे पर सुजन, मांसपेशियों में दर्द, बाल झड़ना, दिल की गति धीमी होना, याद्दाश कमजोर होना, टेंशन और अवसाद, आवाज का बैठ जाना, बोलने में तकलीफ होना, अनियमित मासिक धर्म, कब्ज, अधिक नींद आना, आदि भी थायराइड होने के लक्षण(Thyroid Symptoms in Hindi) है|

थायराइड से बचाव के घरेलू उपाय (Thyroid Treatment in Hindi)

  • थायराइड (thyroid in hindi) की बीमारी से छुटकारा पाने के लिए सुबह खाली पेट लौकी का जूस पीयें, आप एलोवेरा का जूस भी पी सकते है, दोनो ही थायराइड में बहुत गुणकारी है|
  • थायराइड thyroid in hindi) के मरीजों को अपने खाने में विटामीन A की मात्रा अधिक रखनी चाहिए, गाजर और हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें|
  • थायराइड में काली मिर्च का सेवन करें से भी बहुत फायदा मिलता है|
  • हरे धनिये की चटनी बनाकर इसे पानी के साथ पीने से भी थायराइड में लाभ मिलता है.
  • अंडा खाने से भी थायराइड कण्ट्रोल में रहता है|
  • थायराइड आयोडीन की कमी की वजह से होता है| इसलिए थायराइड के मरीजो को आयोडीन का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए, आप प्याज, लहसुन, टमाटर आदि चीजों का सेवन करें| क्योंकि इनमे आयोडीन अधिक मात्रा में होता है|
  • दिन में कम से कम एक नारियल पानी पीयें नारियल भी थायराइड को कण्ट्रोल करने में मदद करता है|
  • थायराइड से बचने के लिए हलासन, मत्स्यासन आदि व्यायाम करें, रोजाना आधे – एक घंटे व्यायाम और योग करें|

थायराइड में इन चीजों से परहेज करें

  • सफ़ेद नमक का सेवन ना करें, काला या सेंधा नमक खाएं|
  • वनस्पति घी का सेवन ना करें|
  • रेड मीट का सेवन ना करें|
  • नशीले पदार्थों से दुरी बनाये रखें|
  • बाहर के फास्टफूड या जंकफूड ना खाएं|
  • ज्यादा मार्किट वाले प्रोडक्ट जैसे केक, पिस्ता आदि का सेवन ना करें|
  • मैदे से बने प्रोडक्ट जैसे पास्ता, मैगी, वाइट ब्रेड आदि का सेवन ना करें|
  • सॉफ्ट ड्रिंक से दुरी बनाये रखें|
  • ज्यादा मीठी चीजें ना खाएं|

 

Please follow and like us:
0

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*