गर्भावस्था में थकान होने के कारण, लक्षण और इलाज (Tiredness In Pregnancy)

tiredness in pregnancy | tiredness during pregnancy

इस भागदौड़ भरी जिंदगी में थकना मना है लेकिन यह थकान सामान्य आदमी के लिए सही है लेकिन अगर यही थकान जब प्रॉब्लम बन जाए तो बहुत बड़ी बात है. गर्भावस्था के दौरान पहले तीन महीने में थकान होना प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए सबसे आम बात है. दुसरे तिमाही में यह थकान अपने आप ठीक हो जाती है|

लेकिन यह थकान तीसरी तिमाही में वापिस आ सकती है. पहले के तीन महीने और लास्ट के तीन महीने गर्भवती महिलाओं के लिए सबसे चुनोती भरे होते है. थकान के साथ-साथ पैरों में जलन, सीने में जलन, पैरों में एंठन, नींद में कमी आदि समस्याएं भी होने लगती है. इन समस्याओं को दूर करने की कोशिश करें, आपकी थकान अपने आप दूर हो जाएगी|

इसके अलावा तनाव, चिंता, अवसाद, खून की कमी आदि की वजह से भी थकान हो सकती है. अगर आपकी थकान का कारण डिप्रेशन, तनाव आदि है तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए. अगर अचानक से थकान महसूस होने लगे तो भी एक बार अपने डॉक्टर से सम्पर्क जरुर करें. आईये जानते है गर्भावस्था में थकान होने के कारण, लक्षण और इलाज के बारे में|

गर्भावस्था में थकान होने के कारण (Causes Of Tiredness In Pregnancy)

  • हार्मोन में बदलाव होने पर: गर्भावस्था में महिला के शरीर में कई तरह के बदलाव आते है जिसकी वजह से उनके हार्मोन में भी बदलाव आते है. गर्भावस्था के समय में प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन में वृद्दि होने के कारण भी अक्सर थकान महसूस होती है |
  • नींद पूरी ना होने से: अगर महोलायें गर्भावस्था के दौरान पूरी नींद ना ले तो थकान होना स्वभाविक है. इसलिए गर्भावस्था के समय में महिलाओं को सबसे ज्यादा आराम की जरुर होती है |
  • पौष्टिक तत्वों की कमी से: गर्भावस्था में खान-पान का विशेष ध्यान रखना होता है और ऐसे में गर्भवती महिला को पौष्टिक तत्वों की कमी की वजह से थकान होने लगती है |
  • वजन बढ़ने से: वजन बढना हर किसी के लिए बहुत नुकसानदायक है|गर्भवती महिलाओं का वजन हार्मोनल बदलाव के कारण तेजी से बढ़ता है | वजन के बढ़ने से खाना भी जल्दी नहीं पचता जिसकी वजह से थकान होने लगती है |
  • ज्यादा काम करने से: गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर सबसे ज्यादा आराम की सलाह देते है| ऐसे में ज्यादा काम करने से जल्दी थकान होने लगती है और अगर प्रेग्नेंट महिला जॉब पर भी जाती है तो ऑफिस के कामकाज की वजह से भी ज्यादा थक जाती है|
  • उल्टी और मतली से: जी मचलने, उल्टी होने, जी घबराने आदि की वजह से भी महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान थकान होने लगती है|
  • खून की कमी से: गर्भावस्था में दौरान शरीर को ज्यादा खून की जरूरत होती है और ऐसे में अगर गर्भवती महिला खून की कमी यानी एनीमिया हुआ तो ज्यादा से ज्यादा थकान होने लगती है|

गर्भावस्था में थकान कब होने लगती है? (Tiredness In Pregnancy)

गर्भावस्था में थकान पहेल के तीन महीने जब महिला गर्भ धारण करती है तब होने लगती है | दुसरे तिमाही में यह थकान बेहतर हो जाती है लेकिन तीसरी तिमाही में यह वापिस शुरू हो जाती है |गर्भावस्था में थकान प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन के स्तर में वृद्दि के कारण होती है, जिसकी वजह से प्रेग्नेंट महिला को हर वक्त नींद महसूस होती रहती है| ऐसे में एक बार अपने डॉक्टर से सम्पर्क जरुर करें| 

गर्भावस्था में थकान का इलाज (Tiredness Treatment)

  • ज्यादा से ज्यादा आराम करें. माँ बनने के अहसास का आनन्द ले, क्योंकि यह दुनिया का सबसे सुखद अहसास है|
  • वजन को कंट्रोल करें. बढ़ा हुआ वजन आगे भी बहुत परेशानी खड़ी कर सकता है|
  • योग और व्यायाम का सहारा ले. खुद को एक्टिव रखें|
  • किसी भी तरह का तनाव ना ले, क्योंकि इसका असर आपके बच्चे पर भी पड़ता है |
  • पर्याप्त नींद ले. जब आपकी नींद पूरी होगी तो आपको थकान महसूस नहीं होगी|
  • ज्यादा से ज्यादा खुश रहने की कोशिश करें. माँ बनने के हर एक पल को एन्जॉय करें. शाम को घुमने चले जाए, दोस्तों के साथ वक्त बिताएं, जीवनसाथी के साथ आगे की प्लानिंग करें|
  • अपनी ऊर्जा को बनाए रखने के लिए पौष्टिक और संतुलित आहार ले. खाने में प्रोटीन की मात्रा बढ़ाएं. हरी सब्जियों का सेवन करें, जूस पीयें. ज्यादा से ज्यादा पानी पीयें|
  • विटामीन C युक्त आहार ले|
  • एक साथ खाना खाने की वजाय दिन में 4-5 बार खाना खाएं|
  • अच्छी किताबें पढ़ें, अच्छा खाना खाएं, अच्छा सोचे, अच्छी बातें सुने, अच्छा देखें. जिसका असर आपके बच्चे पर भी पॉजिटिव पड़ेगा|

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*